DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेंसेक्स में दर्ज की गई 305 अंकों की भारी गिरावट

सेंसेक्स में दर्ज की गई 305 अंकों की भारी गिरावट

अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा मौद्रिक प्रोत्साहन में कटौती के बाद कमजोर वैश्विक रुख के बीच दिग्गज शेयरों में चौतरफा बिकवाली से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स सोमवार को 305 अंक का गोता खा गया। निवेशकों को फेडरल रिजर्व के नए कदम से भारत और चीन में वृद्धि दर और प्रभावित होने की आशंका है।

सरकार द्वारा शुक्रवार को चालू वित्त वर्ष के लिए जीडीपी वृद्धि दर का अनुमान घटाए जाने से भी बाजार पर दबाव बढ़ा। तीस शेयरों वाला सेंसेक्स 304.59 अंक टूटकर 20,209.26 अंक पर बंद हुआ। यह 13 नवंबर, 2013 के 20,194.40 के स्तर के बाद का सबसे कमजोर स्तर है। सात दिन में यह छठा दिन है जब बाजार गिरा है।

शुक्रवार को सेंसेक्स 15.60 अंक सुधरा था, जबकि उससे पहले लगातार पांच दिन इसमें कुल मिला कर 875.41 अंक की गिरावट दर्ज की गई। इसी तरह, नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी कारोबार के दौरान 6,000 के स्तर से नीचे चला गया। हालांकि, यह 87.70 अंक नीचे 6,001.80 अंक पर बंद हुआ।

इन्‍फोसिस, आईसीआईसीआई बैंक और टाटा मोटर्स सहित 25 कंपनियों के शेयर गिरावट के साथ बंद हुए। ब्रोकरों ने कहा कि चीन में विनिर्माण क्षेत्र में नरमी की रपटों के बाद विदेशी निवेशकों ने अपने सौदों को निपटा दिया। इसके अलावा, कोष प्रबंधक अमेरिकी फेडरल रिजर्व के निर्णय को लेकर भी चिंतित दिखे जिसमें फेडरल रिजर्व ने मौद्रिक प्रोत्साहन में प्रतिमाह 10 अरब डॉलर की कटौती की है। इससे भारत जैसे उभरते देशों में आने वाला पूंजी प्रवाह प्रभावित होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सेंसेक्स में दर्ज की गई 305 अंकों की भारी गिरावट