DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘2009 में नहीं बनानी चाहिए थी सरकार’

‘2009 में नहीं बनानी चाहिए थी सरकार’

कांग्रेस महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने कहा है कि 2009 यह बेहतर होता कि कांग्रेस सरकार नहीं बनाती, जिससे कोई अन्य सरकार बना सकता था। ऐसी स्थिति में कांग्रेस एक स्वस्थ्य विपक्ष की भूमिका निभा सकती थी। एक साक्षात्कार में रविवार को द्विवेदी ने कहा कि जब तक आप पिछले प्रयोगों को खत्म नहीं करते, आप नया प्रयोग शुरू नहीं कर सकते। चूंकि हमने 2009 में उस अध्याय को समाप्त नहीं किया इसलिए हम आगे की चुनौतियों का सामना करने के लिए अभी भी उसी रास्ते पर चल रहे हैं।

पार्टी में एकला चलो के बड़ा पैरोकार समझे जाने वाले द्विवेदी ने कहा कि 2009 के चुनाव में कांग्रेस ने पार्टी की सरकार बनाने के लिए जनादेश चाहा था, यूपीए-दो के लिए नहीं। यद्यपि उसे यह जनादेश नहीं मिला हालांकि उसकी सीटें बढ़ी। उन्होंने इस बात पर खेद जताया कि इन दिनों संभवत: किसी प्रमुख राजनीतिक दल में आत्मविश्वास और धीरज नहीं रहा कि वह सहज भाव से विपक्ष की भूमिका अदा करे, चुनौतियां स्वीकार करे, जनता के लिए संघर्ष करे और एक नई चमक के साथ जनसमर्थन लेकर सरकार बनाए।

उन्होंने कहा कि स्वाभाविक नेतृत्व विकसित करने की बजाय तकनीकी नेतृत्व विकसित करने का प्रयास अधिक किया जा रहा है। यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस को गठबंधन की राजनीति पर चलना चाहिए या लंबी अवधि के लिए पार्टी को खड़ा करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए द्विवेदी ने कहा कि मेरी व्यक्तिगत राय में पार्टी को खड़ा करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘2009 में नहीं बनानी चाहिए थी सरकार’