अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिलहाल महंगाई से राहत के आसार नहीं

विपक्षी दलों की लगातार घेरबंदी से जूझ रही यूपीए सरकार ने भले ही बेलगाम महंगाई दर को थामने के लिए जल्द ही नये कदम उठाने की घोषणा कर दी हो लेकिन कम से कम अगले दो माह तक आपकी मुश्किलें आसान होने के आसार नहीं हैं। देश के प्रमुख आर्थिक संगठनों और चैंबरों का साफ तौर पर मानना है कि आने वाले कुछ महीनों के दौरान महंगाई में कमी आना नामुमकिन है और इस लिहाज से सितंबर से पहले तक का समय सरकार के लिए बेहद चुनौतीपूर्ण साबित होगा। खाने की वस्तुओं के दामों में कमी के लिए खरीफ की फसल का इंतजार करना होगा। फिलहाल इन वस्तुओं में सर्वाधिक मूल्य बढ़ोत्तरी खाद्य तेलों, चावल और फलों में दिख रही है। निकट भविष्य में इनके मूल्यों में कमी के संकेत नहीं है। वहीं सरकार ने जल्द ही ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी के संकेत दिये हैं। जाहिर है इससे बाजार की अत्यधिक तरलता को कम करते हुये महंगाई का ग्राफ कम करने में थोड़ी सफलता मिल सकती है लेकिन आपकी मुश्किलों में और क्षाफा होना तय है। सेंटर फॉर मानीटरिंग इंडियन इकोनॉमी ने सीएमआईई ने अपनी ताजा रिपोर्ट में साफ कहा है कि महंगाई के लिहाज से आने वाले कम से कम दो माह सरकार के लिए सरकार के खासे चुनौतीपूर्ण होंगे। खरीफ की फसल बाजार में सितंबर के आखिरी दिनों में आएगी। इसके बाद ही खाद्य वस्तुओं के मूल्यों में नरमी का माहौल बनेगा। वैसे सीएमआईई ने पूर वित्त वर्ष के लिए महंगाई दर को 5.5 फीसदी पर ही रहने की बात फिर से दोहराई है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फिलहाल महंगाई से राहत के आसार नहीं