DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हवाला के करोड़ों रुपये लूट चुका है गैंग

राजधानी में हुई सबसे बड़ी लूट की वारदात को अंजाम देने वाला गिरोह पिछले दो सालों से सक्रिय है। इस गिरोह ने राजधानी में पांच बड़ी लूट की वारदातों को अंजाम दिया। खासबात यह है कि इन सभी वारदातों में रकम हवाला की थी। इस कारण इन मामलों की शिकायत पुलिस में दर्ज नहीं कराई गई। यह खुलासा मामले की जांच से जुड़े स्पेशल सेल के एक आला अधिकारी ने किया।

निशाने पर रहते थे हवाला कारोबारी: अधिकारी के मुताबिक इस गिरोह के निशाने पर हवाला के कारोबार से जुड़े लोग ही होते हैं। हवाला नेटवर्क की रकम के ट्रांजेक्शन की जानकारी हासिल करने के लिए भी गिरोह के सदस्य शातिराना अंदाज में उस ग्रुप में जुड़ते थे। जानकारी एकत्र करने के बाद कार्यालय से लेकर जहां रकम पहुंचाई जाती है, उसकी रेकी पहले ही कर ली जाती थी। आठ करोड़ रुपये की हुई लूटपाट की इस वारदात को भी बदमाशों ने इसी अंदाज में अंजाम दिया है।

कारोबारी राजेश कालरा के कालका जी स्थित कार्यालय में नाबालिग ने नौकरी शुरू की। इस दौरान उसने रकम के आवागन के बारे में पूरी जानकारी हासिल कर ली। फिर उसने जनवरी में यह बात अपने रिश्तेदार अजय को बताई, जो मदनगीर में मोमोज बेचता है। लेकिन उसे इस बात का डर था कि नाबालिग से जुड़े होने के कारण शक की सुई कहीं उसकी तरफ ही न चली जाए। लिहाजा उसने करीब तेरह साल पहले बैंक लूट की वारदात को अंजाम देने वाले अपने एक शातिर लुटेरे शक्ति नायडू से संपर्क किया और साजिश रच वारदात को अंजाम दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हवाला के करोड़ों रुपये लूट चुका है गैंग