DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपने को भारत का पुत्र मानते हैं दलाई लामा

अपने को भारत का पुत्र मानते हैं दलाई लामा

तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा अपने को भारत का पुत्र मानते हैं और वह यहां काफी खुश हैं। दलाई लामा रविवार को यहां संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मैं 54 साल से भारतीय चावल, रोटी, चाय ले रहा हूं। अब मैं खुद को भारत का पुत्र, मिटटीपुत्र मानता हूं।

उन्होंने कहा कि मैं काफी खुश हूं। वह पांच दिवसीय तिब्बती कला एवं संस्कृति उत्सव का उद्घाटन करने तथा पहले एलबीएस फाउंडर्स कमेमोरेटिव व्याख्यान देने के लिए यहां आए थे। तिब्बत पर चीन के हमले के बाद दलाई लामा 1959 में भारत आने के क्रम में गुवाहाटी से गुजरे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपने को भारत का पुत्र मानते हैं दलाई लामा