अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दुग्ध भवन के निर्माण में पड़ गई खटाई

गोमतीनगर में करीब 30 करोड़ की लागत से बनने वाले दुग्ध भवन का निर्माण खटाई में पड़ गया है। वित्त विभाग ने इस भवन के निर्माण के औचित्य पर ही सवाल उठा दिए हैं। वित्त विभाग ने पीसीडीएफ से कहा है कि वह पाँच करोड़ रु. लागत तक की कोई योना बनाए तब उस पर विचार कियाोाएगा।ड्ढr दुग्ध भवन के निर्माण को लेकर पिछले कुछ सालों सेोोर आामाइश चल रही थी। पीसीडीएफ ने अपना पार्क रोड स्थित मौाूदा भवन असुरक्षित घोषित कर दिया है। पीसीडीएफ के पास विभूति खण्ड मेंोमीन हैोिस पर वह करीब 30 करोड़ रु. की लागत का भवन बनाना चाहता था। विभाग ने यह प्रस्ताव व्यय वित्त समिति के सामने रखा था। वित्त व्यय समिति ने मौाूदा पीसीडीएफ भवन के इस्तेमाल के बार में अख्या माँगी थी। पीसीडीएफ ने कहा था कि इस स्थान पर दुग्ध प्रशिक्षण संस्थान का निर्माण विचाराधीन है। दुग्ध आयुक्त ने यह भी कहा था कि विभाग का एक कार्यालयोवाहर भवन में स्थित है। यह राय सम्पत्ति विभाग के नियंत्रण में है। यह कार्यालय भी प्रस्तावित दुग्ध भवन में शिफ्ट कर दियाोाएगा। लेकिन व्यय वित्त समिति ने पीसीडीएफ के सपनों पर पानी फेर दिया। सूत्रों के अनुसार समिति ने कहा है कि दोनों भवनों को खाली करके गोमतीनगर स्थित भूमि पर नए भवन के निर्माण का कोई औचित्य नहीं है। इसके अलावा नए भवन की अनुमानित लागत करीब 28 करोड़ रु. है।ोबकि दुग्ध विभाग के बाट में भवन निर्माण के लिए 2007-2008 में दो करोड़ रु. व 2008-200में भी 2 करोड़ रु. का प्रावधान है। ऐसे में इतने बड़े भवन का निर्माण संभव नहीं है। समिति ने दुग्ध विकास विभाग से कहा है कि वह पाँच करोड़ रु. तक की लागत की योना तैयार कर कमेटी के सामने प्रस्ताव ोो। लेकिन विभाग के सामने दिक्कत यह है कि वह एक करोड़ रु. का इंतााम कहाँ से कर?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दुग्ध भवन के निर्माण में पड़ गई खटाई