DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फगुवा, सरहुल और करमा के गीतों से गुलजार हुआ सनिपरब

रांची। संवाददाता। झारखंडी लोक कला से साल का पांचवां सनिपरब गुलजार रहा। शनिवार को कला एवं संस्कृति विभाग की ओर से डॉ रामदयाल मुंडा कला भवन होटवार में कई कार्यक्रम आयोजित हुए। नामकुम टीम के कलाकारों ने फगुवा, सरहुल और करम पर्व के मौके पर गाए जाने वाले गीत व नृत्य की प्रस्तुति दी। इसका नेतृत्व जाबरा मुंडा ने किया।

ढोल, मांदर, झाल और नगाड़े की धुन पर कलाकारों ने कई गीत व नृत्य पेश किए। सारे जाम बा, खेसे लेसे रे, चिया काम, काजीकुलान्या, छोटानागपुर दशिुम दो, दशिुना ले लो ताना सहित मुंडारी के कई गीतों से कलाकारों ने कार्यक्रम में समां बांधा।

गुमला टीम के कालकारों ने मर्दानी झूमर, दमकच नृत्य सहित अन्य कई कार्यक्रम पेश किए। गुमला टीम का नेतृत्व शंकर नायक ने किया। विजय कुमार सिंह के निर्देशन में कलाकारों ने मैं भी हूं नाटक का मंचन किया गया। समाज में बढ़ रहे मानसिक रोग व रोगियों की दुर्दशा पर यह नाटक कई संदेश दे गया।

रोमांस और हास्य से भरपूर इस नाटक में कुल 14 कलाकार थे। कार्यक्रम का संचालन सरोज झा ने किया। मौके पर प्रोफेसर अजय मलकानी, अभिराज, अमर, पूजा, शिखा, स्वास्तिका, सरमिष्ठा, सुमित, राकेश, विनोद, विष्णु, सरोज, पुरुषोत्तम, अभिषेक,शेखर, शैलेंद्र सहित काफी संख्या में कलाकार, कलाप्रेमी व दर्शक उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फगुवा, सरहुल और करमा के गीतों से गुलजार हुआ सनिपरब