DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आधी-अधूरी तैयारी के साथ लागू हुआ खाद्य सुरक्षा बिल

भागलपुर, वरीय संवाददाता। गरीबों को सस्ते दर पर अनाज देने की खाद्य सुरक्षा योजना की शुरुआत जिले में शनिवार को आधी-अधूरी तैयारी के साथ सबौर की खनकित्ता पंचायत से हुई।

समय पर कार्ड तैयार नहीं होने और कम लाभुकों के पहुंचने के चलते केवल उद्घाटन की औपचारिकता पूरी की गई। पहले दिन मात्र 43 लाभुकों को ही कार्ड दिया गया। इनमें 20 परिवार ने ही अनाज उठाया। कुछ पैसा नहीं रहने के कारण अनाज नहीं ले सके।

योजना का उद्घाटन सबौर प्रखंड कार्यालय में उप विधास आयुक्त राजीव प्रसाद सिंह ने किया। डीडीसी ने खाद्य सुरक्षा बिल के तहत मिलने वाले लाभ, वजन और रेट के बारे में लोगों को बताया।

इस पंचायत में 578 परिवारों को इस योजना का लाभ मिलेगा। पंचायत में 84 परिवार ऐसे हैं जिन्हें अन्त्योदय कार्ड मिला हुआ है। उद्घाटन के मौके पर लाभुकों को राशन कार्ड का वितरण किया जाना था। लेकिन 50-60 परिवार के लोग ही आए। कार्ड भी बनकर पहले से तैयार नहीं था।

आनन-फानन में 43 परिवारों को कार्ड दिया गया। इस योजना के तहत परिवार की वरीय महिला सदस्य के नाम से कार्ड बनाया गया है। कार्ड के अंदर परिवार के सदस्यों की सूची दर्ज है।

सभी सदस्यों का संयुक्त फोटो लगा हुआ है। योजना के तहत प्रेमा देवी को सबसे पहले अनाज दिया गया। उनके परिवार में सात सदस्य हैं। उन्हें 21 किलो चावल (अरबा) और 14 किलो गेहूं मिला। प्रेमा देवी ने बताया कि पहले लाल कार्ड पर 25 किलो अनाज मिलता था। अब 35 किलो मिला। रेट भी पहले से कम है।

मौके पर डीडीसी के अलावा एसएफसी ने जिला प्रबंधक सोभेन्द्र चौधरी, एसडीओ सदर सुनील कुमार, जिला पंचायतीराज पदाधिकारी अरुण कुमार ठाकुर, जिला आपूर्ति पदाधिकारी रवीन्द्र कुमार, एमओ ब्रजेश सिंह, कमल जायसवाल, बीडीओ सरस्वती कुमारी, प्रमुख आरती यादव, सीओ अशोक कुमार, मुखिया जयप्रकाश यादव, सुल्तानगंज एमओ ओमप्रकाश मंडल आदि उपस्थित थे।

गांव में शिविर लगाकर बंटेगा कार्ड भिट्ठी निवासी अनिता देवी, बेवी देवी, बिजली देवी, पुतुल देवी, मनसरिया देवी, शीला देवी सहित करीब 50 महिलाएं दिन में एक बजे सबौर प्रखंड कार्यालय पहुंची। सबके हाथ में लाल कार्ड था।

उस समय तक उद्घाटन कार्यक्रम खत्म हो चुका था। महिलाओं ने बताया कि उनलोगों को कार्ड और खाद्यान्न वितरण की जानकारी नहीं दी गई थी। दोपहर में मोहल्ले में चर्चा हो रही थी तो कार्ड लेकर पहुंची है। लेकिन कार्ड और अनाज नहीं मिला।

अधिकारियों ने बताया कि चौकीदार और मुखिया को जानकारी देने के लिए कहा गया था। कार्ड बन रहा है। रविवार और सोमवार को गांव में शिविर लगाकर कार्ड बांटेंगे। कार्ड मिलने के बाद लाभुक जन वितरण की दुकान से खाद्यान्न लेंगे। इस योजना के तहत डीलरों को खाद्यान्न के लिए एसएफसी गोदाम नहीं जाना पड़ेगा।

उनके दुकान पर खाद्यान्न पहुंचाया जाएगा। अब लाल कार्ड पर केवल केरोसिन, अनाज नहीं भागलपुर, वरीय संवाददाताफरवरी का अनाज अब लाल कार्ड पर नहीं मिलेगा।

इसपर केवल केरोसिन दिया जाएगा। अधिकारियों ने बताया कि सभी पंचायतों में खाद्य सुरक्षा योजना लागू होगा। पहले हर प्रखंड के एक पंचायत का चयन किया जाएगा। ग्रामीण क्षेत्रों में करीब चार लाख 78 हजार परिवारों को चिन्हित किया गया है। इसमें से 82 हजार परिवार अन्त्योदय कार्डधारी हैं।

शहरी क्षेत्र का डाटा तैयार किया जा रहा है। एक अनुमान के अनुसार जिले में योजना का लाभ लेने वाले परिवारों की संख्या पांच लाख तक हो सकती है। फरवरी के अंत तक सभी परिवारों को खाद्यान्न और कार्ड की आपूर्ति कर दी जाएगी।

एसएफसी के जिला प्रबंधक सोभेन्द्र चौधरी ने बताया कि फरवरी से लाल कार्ड का खाद्यान्न जन वितरण प्रणाली के दुकानदारों को नहीं दिया जाएगा। अधिकारियों ने बताया कि पूर्व की तरह लाल कार्ड पर केरोसिन का वितरण किया जाएगा। लेकिन खाद्यान्न के लिए खाद्य सुरक्षा बिल वाला कार्ड लाना होगा।

लाभुकों को दोनों कार्ड रखना होगा। वर्तमान में कार्डधारियों की स्थिति बीपीएल परिवार- 311044 ( 10 कि. गेहूं, 15 कि. चावल) ( 5.22 रुपए किलो गेहूं, 6.78 रुपए किलो चावल)अन्त्योदय परिवार - 55855 ( 14 कि. गेहूं, 21 कि. चावल) ( तीन रुपए किलो चावल, दो रुपए किलो गेहूं)एपीएल परिवार - 310069।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आधी-अधूरी तैयारी के साथ लागू हुआ खाद्य सुरक्षा बिल