DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसआरएम में होगी मेडिकल की पढ़ाई

मोदीनगर। हमारे संवाददाता। एसआरएम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. डॉ. एस. राजराजन ने कहा कि विश्वविद्यालय गुणवत्तापूर्ण एवं शोधपरक शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए प्रतबिद्ध है और इसी के तहत संस्थान भारत तथा वशि्व की सुप्रतिष्ठित शोधपरक संस्थानों से अनुबंध कर छात्रों को शिक्षित करेगा। डॉ. राजराजन नई दिल्ली स्थित जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के सभागार में आयोजित कार्यक्रम के दौरान एसआरएम विश्वविद्यालय हरियाणा एवं लंदन स्कूल ऑफ हाईजीन एंड ट्रापिकल मेडिसन, यूके के बीच हुए एक अनुबंध के बाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

यह अनुबंध एसआरएम की ओर से कुलपति प्रो. डॉ. एस. राजराजन व लंदन स्कूल ऑफ हाईजीन एंड ट्रापिकल मेडिसन, यूके की ओर से डॉ. साइमन क्राफ्ट, डीन एवं फैकल्टी ऑफ इनफैक्शियस एंड ट्रॉपिकल डिसीज के द्वारा सत्यापित प्रेलेखों, अनुबंधों एवं सशर्त अनुपालक निर्देशनों के पारस्परिक हस्तांतरण कर संपन्न हुआ। अनुबंध के बाद दोनों संस्थान ही नहीं बल्कि भयंकर बीतारियों से पीड़ित विकसित एवं अविकसित देशों के लाखों लोगों को इसके शोधात्मक परिणामों से लाभ होगा। डॉ. राजराजन ने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा शीघ्र ही एमबीबीएस, एमडी व एमएस के पाठ्यक्रमों के लिए पीआर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रसिरे्च की स्थापना व 300 बिस्तरों का एक सुपर स्पेसिलिटी हॉस्पिटल भी शुरू किया जाएगा।

इस मौके पर निदेशक डॉ. मनोज कुमार पांडेय, प्रशासनिक अधिकारी एस वशि्वनाथन समेत अन्य शिक्षक एवं शिक्षाविद मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एसआरएम में होगी मेडिकल की पढ़ाई