DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किताबों की दुनिया में जादू सीखेंगे बच्चे

नई दिल्ली प्रमुख संवाददाता। किताबों की दुनिया में लोट-पोट होने वाले बच्चों के लिए खुशखबरी है। आठ दिन तक उन्हें न सिर्फ किताबों की दुनिया में खो जाने का मौका मिलने वाला है बल्कि यहां पर वे जादू के तमाम ट्रिक भी सीख सकेंगे। 15 से 23 फरवरी तक चलने वाले नई दिल्ली वशि्व पुस्तक मेले में इस बार बच्चों का खास खयाल रखा जाने वाला है। मेले की थीम इस बार बाल साहित्य है। यहां पर तमाम बाल साहित्य तो मिलेगा ही, बच्चों को कला और शिल्प के हुनर भी सिखाए जाएंगे।

एशियाई और अफ्रीकी देशों में किताबों के सबसे बड़े मेले के तौर पर विख्यात वशि्व पुस्तक मेले का आयोजन 15 फरवरी से प्रगति मैदान में किया जाने वाला है। नेशनल बुक ट्रस्ट (एनबीटी) इंडिया ट्रेड प्रमोशन आर्गनाइजेशन (आईटीपीओ) के साथ मिलकर इसका आयोजन करता है। यूं तो हमेशा ही मेले में बच्चों से संबंधित किताबों की भरमार रहती है। लेकिन, इस बार बाल साहित्य को खास तवज्जो देते हुए इसे ही मेले की थीम घोषित किया गया है। मेले में एनबीटी के नेशनल सेंटर फॉर चिल्ड्रेंस लिटरेचर (एनसीसीएल) की तरफ से तमाम किस्म की गतविधिियां आयोजित की जाएंगीं।

बच्चों के लिए अलग से बनाए गए चिल्ड्रेंस पैवेलियन में पुस्तक प्रदर्शनी के अलावा स्टोरी टेलिंग, सम्मेलन, वर्कशॉप आयोजित की जाएगी। इसका मुख्य भाग ‘डू इट योरसेल्फ’ यानी खुद से करो पर रहेगा। बाल साहित्यकार और काटरूनिस्ट चिल्ड्रेंस पैवेलियन में आएंगे और वे बच्चों के साथ चर्चा भी करेंगे। बच्चों के लिए एनबीटी किड्स बबल नाम से एक अलग कोना भी बनाएगा। यहां पर बच्चों को जादू की ट्रिक्स सिखाने के साथ ही फिल्में दिखाई जाएंगी और अलग-अलग शिल्प के साथ भी उनका परिचय कराया गया।

16 फरवरी से 23 फरवरी तक 11 बजे सुबह से 3:30 बजे तक यह गतविधिियां चलेंगी।

मेले की खास बातें

--15 से 23 फरवरी तक प्रगति मैदान में चलेगा पुस्तक मेला--1972 में शुरू किए गए पुस्तक मेले का यह है 22वां सत्र--1700 से ज्यादा किताबों के स्टाल लगेंगे इस बार मेले में--100 से ज्यादा प्रकाशन संस्थान करने वाले हैं हिस्सेदारी

पोलैंड है अतिथि देश

पुस्तक मेले में इस बार पोलैंड को अतिथि देश घोषित किया गया है। मेले के दौरान पोलैंड की पुस्तकें तो प्रदर्शित की ही जाएंगी, अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों के जरिए भी पोलैंड की संस्कृति और कला की झलक प्रस्तुत की जाएगी।  पिछले साल फ्रांस को अतिथि देश बनाया गया था।

-गुलजार और इरफान खान कर रहे प्रचार

पुस्तक मेले का प्रचार इस बार शायर, गीतकार और फिल्मकार गुलजार और अभिनेता इरफान कर रहे हैं। खासतौर पर युवाओं को पुस्तकों के प्रति प्रोत्साहित करने वाला एक ऑडियो-वीडियो संदेश भी उन्होंने रिकॉर्ड कराया है। पिछले साल फारुख शेख ने पुस्तक मेले के प्रचार की जिम्मेदारी उठाई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किताबों की दुनिया में जादू सीखेंगे बच्चे