DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सबसे बड़ी लूट का साजिशकर्ता निकला नाबालिग

नई दिल्ली वरिष्ठ संवाददाता।  राजधानी में हुई सबसे बड़ी लूट का साजशिकर्ता एक नाबालिग निकला। यह नाबालिग पीड़ित कारोबारी राजेश कालरा का कर्मचारी है। दफ्तर में काम करने के दौरान उसे पता चला कि वहां से करोड़ो रुपये की हवाला रकम इधर से उधर की जाती है। उसने यह जानकारी अपने एक रशि्तेदार अजय को दी। इसके बाद पूरी वारदात की साजशि रची गई। पुलिस ने इस नाबालिग को बाल न्यायालय के समक्ष पेश कर बाल सुधार गृह भेज दिया है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार मदनगीर में रहने वाला नाबालिग तीन माह बाद बालिग होने वाला है। वह अपने परिवार के साथ मदनगीर इलाके में रहता था। वह राजेश कालरा के कालकाजी स्थित दफ्तर की देखभाल करता था। वहां नौकरी करने के दौरान उसे पता चला कि दफ्तर में मोटी रकम आती-जाती है। आए दिन करोड़ो रुपये का लेन-देन उसका मालिक करता है। जनवरी माह में उसने यह बात अपने रशि्तेदार अजय को बताई जो मदनगीर में मोमोज बेचता है। अजय ने यह बात एक शातिर लुटेरे शक्ति नायडू को बताई।

फिर शक्ति ने डकैती डालने के लिए पांच से छह अन्य बदमाशों को साजशि में शामिल किया। बीते 24 जनवरी को सबसे पहले आरोपियों ने कालकाजी स्थित राजेश कालरा के दफ्तर से रकम ले जाने वाली जगह तक रेकी की। इस दौरान उन्होंने यह देखा कि पुलिस के सुरक्षा इंतजाम, पुलिस पिकेट और पीसीआर वैन कहां तैनात रहती हैं। वारदात को अंजाम देने के लिए उन्होंने वैगन आर, हुंडई वारना और जेटा गाड़ी का इंतजाम किया। इनमें से दो गाडिम्यां चोरी की थीं जबकि जेटा कार शक्ति नायडू की बताई गई है।

वारदात वाले दिन उन्हें जैसे ही यह जानकारी मिली कि कालकाजी से होंडा सिटी कार में मोटी रकम जा रही है। वह अपनी अपनी गाड़ियों से उसके पीछे लग गए। वैगन आर कार उस समय प्रवीण चला रहा था जबकि वारना कार में तिलकराज और गुलजार बैठे हुए थे। मूलचंद फ्लाइओवर के समीप पहुंचने पर उन्होंने वैगन आर कार से कारोबारी की होंडा सिटी को टक्कर मार दी। इससे पहले कि वह कुछ समझ पाते वैगन आर और वारना कार से उतरे बदमाशों ने पिस्तौल दिखाकर कार सवार सभी लोगों को नीचे उतार दिया और फिर कारोबारी की होंडा सिटी लेकर फरार हो गए।

इस कार में 7.69 करोड़ रुपये होने की जानकारी कारोबारी ने पुलिस को दी थी। रास्ते में बदली कारघटनास्थल से होंडा सिटी कार की डिग्गी में रखे करोड़ो रुपये लेकर बदमाश फरार हुए। उस समय बदमाश होंडा सिटी, वारना और जेटा गाड़ी में सवार थे। कुछ आगे जाने पर बदमाशों ने वारना गाड़ी को लावारिस हालत में छोड़ दिया। उधर होंडा सिटी कार में सवार बदमाश बारापुला के समीप पहुंचे जहां उन्होंने डिग्गी में रखी रकम को जेटा कार में रख लिया।

वहां होंडा सिटी कार लावारिस हालत में छोड़कर वह फरार हो गए थे। महिपालपुर में बांटी रकमस्पेशल सेल के एक अधिकारी ने बताया कि वारदात को अंजाम देने के बाद सभी बदमाश पहले से तय जगह महिपालपुर में एकत्रित हुए। वहां उन्होंने बैग खोला तो उसमें करोड़ो रुपये थे। वहां इन लोगों ने आपस में रकम बांट ली। रकम लेने के बाद सभी लुटेरे वहां से निकले गए थे। इनमें से तीन बदमाश रकम छिपाने के बाद किराये की टैक्सी लेकर हिमाचल प्रदेश चले गए थे।

रकम अभी तक स्पष्ट नहीं दिल्ली की सबसे बड़ी लूट की रकम को लेकर अभी तक स्पष्ट खुलासा नहीं हो सका है। कारोबारी ने गाड़ी में 7.69 करोड़ रुपये रखे होने की बात की थी। लेकिन इस रकम के कहीं ज्यादा होने की आशंका जताई जा रही है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि आरोपियों ने जब होंडा सिटी कार की डिग्गी खोली तो उसमें रुपये से भरे पांच बैग रखे हुए थे। 200 पुलिसकर्मी मामले की जांच में जुटे28 टीमें दिल्ली पुलिस की छापेमारी कर रही है04 फरार आरोपियों की पुलिस कर चुकी है पहचान।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सबसे बड़ी लूट का साजिशकर्ता निकला नाबालिग