DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसान चाहते हैं गन्ने की दुर्गति पर भी बोलें मोदी

मुजफ्फरनगर। कार्यालय प्रतिनिधि।  इस बार गन्ने की दुर्गति हो रही है। प्रदेश सरकार ने जबर्दस्त मंहगाई बढ़ने के बावजूद किसानों को गन्ना मूल्य बढ़ाकर नही दिया है। जो पिछले वर्ष का गन्ना मूल्य था उसमें से भी बीस रुपए कम पर चीनी मिल भुगतान कर रही हैं। वेस्ट यूपी में गन्ना किसान बहुत परेशान हैं। लोग चाहते हैं कि नरेंद्र मोदी गन्ना किसानों के दुख दर्द को समङो और इस पर अपने विचार रखें।

मुजफ्फरनगर के गुड़ की खपत सबसे अधिक गुजरात में ही होती है। गुजरात के सभी व्यंजनों में मुजफ्फरनगर के गुड़ की मिठास होती है। ऐसे में गन्ना किसान चाहते हैं कि मोदी उनके दुखदर्द को समङो और इस पर जरूर बोलें। हालांकि भाजपा से जुड़ा होने के कारण कई नेताओं और किसानों ने सीधे तौर पर अपना नाम नही छापने के लिए कहा लेकिन वह चाहते हैं कि इस समय गन्ना किसानों के हित में आवाज उठाई जाएं। - यूपी की कानून व्यवस्था और छेड़खानी भी अहम मुद्दा मुजफ्फरनगर।

छेडखानी को लेकर मुजफ्फरनगर में सांप्रदायिक बवाल हो चुका है। इससे पूर्व शौरम में भी छेडखानी को लेकर जबर्दस्त बवाल रहा था। तावली में एक व्यक्ति की ईद के दिन ही गोली मारकर मस्जिद के बाहर हत्या कर दी गई थी ऐसे में आम आदमी चाहता है कि भाजपा के प्रधानमंत्री पद के दावेदार यूपी की कानून व्यवस्था और छेडखानी रोकने के लिए अपने भाषण में जरूर विचार व्यक्त करें। मुजफ्फरनगर में बीते साल कई मौत छेडखानी और इसी तरह की घटनाओं को लेकर हुई है।

वेस्ट यूपी भी इसी समस्या से परेशान हैं। अब जब हजारों लोग रैली में जा रहे हैं तो वह चाहते हैं कि इस पर भी जरूर बात स्पष्ट होनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किसान चाहते हैं गन्ने की दुर्गति पर भी बोलें मोदी