DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रेल ब्लास्ट के आरोपी की याचिका पर केंद्र को नोटिस

रेल ब्लास्ट के आरोपी की याचिका पर केंद्र को नोटिस

दिल्ली हाईकोर्ट ने 2006 मुंबई सीरियल रेल ब्लास्ट के मुख्य आरोपी द्वारा दायर याचिका पर केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस भेजा है। न्यायालय ने आरोपी को होमियोपैथी की पुस्तकें मुफ्त में उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए हैं, क्योंकि वह इन पुस्तकों का खर्च वहन नहीं कर सकता।

न्यायमूर्ति मनमोहन ने एहतेशाम कुतुबुद्दीन सिद्दिकी की याचिका पर सरकार को नोटिस जारी किया, जो फिलहाल मुंबई की ऑर्थर रोड जेल में बंद है। सिद्दिकी ने सूचना का अधिकार (आरटीआई) याचिका दायर कर दिल्ली स्थित सेंटर काउंसिल फार रिसर्च इन होमियोपैथी (सीसीआरएच) से पुस्तकें लेने की कोशिश की थी, लेकिन सेंट्रल इंफोर्मेशन कमिशन (सीआईसी) ने उसके अनुरोध को ठुकरा दिया था।

उसने सीसीआरएच द्वारा प्रकाशित 45 पुस्तकों की प्रति उपलब्ध कराने के लिए निर्देश दिए जाने की मांग की थी। सिद्दिकी ने इससे पहले दिल्ली के मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिख कर मेडिकल की पुस्तकें पढ़ने के अपने अधिकार की बात कही थी। इस पर कदम उठाते हुए हाईकोर्ट ने याचिका को जनहित याचिका में तब्दील कर दिया और वकील सुमित पुष्करना को न्यायालय का सलाहकार नियुक्त किया था।

उसने याचिका में लिखा था कि कैदी आम नागरिक नहीं होते और सभी पुस्तकों की प्रति से संबंधित आरटीआई के अंतर्गत इस पर विशेष विचार करने की जरूरत है। उसने पत्र में लिखा था कि उसने आरटीआई कानून के तहत आवेदन दिया था, लेकिन सीसीआरएच ने उसके निवेदन को ठुकरा दिया था। उसने कॉपीराइट कानून के तहत पुस्तकों की सॉफ्ट कॉपी मांगी थी।

बंबई हाईकोर्ट द्वारा उसके गरीबी रेखा से नीचे होने की पुष्टि की जा चुकी है और सिद्दिकी का कहना है कि इसलिए उसे जानकारी मुफ्त दी चाहिए। उसने कहा कि एक कैदी को पैसा कमाने की अनुमति नहीं है, इसलिए राज्य सरकार को पुस्तकें उपलब्ध करानी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रेल ब्लास्ट के आरोपी की याचिका पर केंद्र को नोटिस