DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डॉक्टरों पर हुआ हमला तो मिलेगी तीन साल की सजा

रांची। अजय शर्मा। झारखंड में चिकित्सकों या चिकित्सा सेवा से जुड़े लोगों पर अगर कोई हमला करेगा, तो उसके खिलाफ गैरजमानतीय धाराओं के तहत मामला दर्ज होगा। दोषी पाए जाने पर तीन साल की सजा और 50 हजार तक का जुर्माना लगाया जा सकता है। निजी या सरकारी अस्पतालों को अगर कोई क्षति पहुंचाएगा, तो क्षति की मूल राशि की दोगुनी राशि आरोपी को भुगतान करनी होगी।

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचवि बीके त्रिपाठी ने इस संबंध में प्रस्ताव तैयार किया है। इस पर विधि विभाग, विभागीय मंत्री की सहमति ले ली गई है। अब पूरा मामला कैबिनेट की अगली बैठक में रखा जा सकता है।

झारखंड चिकित्सा सेवा से संबंध व्यक्तियों एवं चिकित्सा सेवा संस्थान (हिंसा एवं संपति नुकसान) अधिनियम पर मुहर लगने के बाद इसे लागू माना जाएगा। क्या है प्रस्तावहिंसक कार्रवाई में चिकित्सा सेवा से जुड़े व्यक्तियों को जख्मी अथवा जीवन का खतरा एवं चिकित्सा सेवा संस्थानों को नुकसान पहुंचाने की प्रवृति झारखंड में बढ़ी है।

इस पर रोकथाम आवश्यक है। अभी इससे संबंधित कोई कारगर नियम नहीं है। इसलिए विभाग ने इसके रोकथाम के लिए इसे संज्ञेय अपराध और गैरजमानतीय बनाने की अनुशंसा की है। किस पर हमला किया तो जाना होगा

जेल- पंजीकृति चिकित्सा सेवा संस्थान, नर्स- मेडिकल छात्र-छात्राएं- नर्सिग छात्र-छात्राएं- पारा मेडिकलकर्मी- चिकित्सा सेवा संस्थान में शामिल प्रत्येक व्यक्तिकौन होगा अपराधीवह व्यक्ति जो स्वयं अथवा एक समूह के सदस्य या नेता के रूप में हिसक कार्रवाई करता है अथवा हिसा का प्रयास करता है।

दूसरे को उकसाने वाला भी इस कानून के तहत अपराधी की श्रेणी में आएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डॉक्टरों पर हुआ हमला तो मिलेगी तीन साल की सजा