DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झामुमो कार्यकर्ताओं ने बीपीओ को पांच घंटे तक रखा बंधक

पोटका। संवाददाता। जनता दरबार में उठी मनरेगा योजना की मांग दो माह बाद भी जिला नहीं भेजने तथा अन्य मांगों को लेकर झामुमो ने पार्षद संजीव सरदार के नेतृत्व में शुक्रवार को पोटका की बीपीओ माला कुमारी को उनके ही कार्यालय में पांच घंटे तक बंधक बनाये रखा।

बाद में थाना प्रभारी जेपी सिंह के प्रयास एवं बीडीओ पायल राज द्वारा गलती स्वीकारने तथा एक सप्ताह में मांगें पूरी करने के आश्वासन पर बीपीओ को बंधनमुक्त किया गया। शुक्रवार को मनरेगा बीपीओ माला कुमारी अपने कार्यालय में काम कर रही थीं।

लगभग 11 बजे पार्षद संजीव सरदार एवं झामुमो प्रखंड अध्यक्ष सुधीर सोरेन के नेतृत्व में दर्जनों कार्यकर्ता प्रखंड परिसर में नारेबाजी करते हुए घुसे एवं बीपीओ के कक्ष में ही उन्हें बंधक बना लिया। बीपीओ पर पार्षद ने आरोप लगाते हुए कहा कि दसिंबर माह में प्रखंड की जामदा पंचायत में जनता दरबार में ग्रामीणों ने बंगालीबासा एवं बाभनबासा गांवो में जब से मनरेगा शुरू हुई तो इन गांवों में एक भी योजना स्वीकृत नहीं की गई।

जनता दरबार में दोनों गांवों से योजना लेने का आश्वासन दिया गया। पुन: दोनों नेताओं ने प्रखंड कार्यालय में बीपीओ से योजना जिला भेजकर पास कराने की मांग की, लेकिन डेढ़ माह बीतने के बावजूद योजना न तो जिले को भेजी गई और न ही स्वीकृति दी गयी।

आरोप है कि इस मामले में रोहित कर नामक एक कार्यकर्ता ने बीपीओ से योजना पास करने की बात कही तो बीपीओ ने मुट्टी गर्म करने की बात कही। नाराज लोगों ने कहा कि जब तक सारी बातें साफ नहीं होंगी वे लोग कार्यालय में ही डटे रहेंगे।

झामुमो नेताओ ने म्यूटेशन नहीं करने, अन्नपूर्णा अनाज नहीं बंटने, इंदिरा आवास का आवंटन चालू करने, बीरबल भूमिज (चाकड़ी) को इंदिरा आवास का कशि्त भुगतान के लिए दो वर्षों तक लटकाने का भी आरोप भी लगाया।

जब घटना की सूचना पोटका थाना प्रभारी को मिली तो वे दलबल के साथ बीपीओ को कार्यालय पहुंचे एवं नाराज नेताओं एवं ग्रमीणों को समझाकर बीपीओ को मुक्त कराया। इसके बाद बीडीओ कार्यालय के बरामदे में एक घंटे तक वार्ता के एवं बीडीओ द्वारा मांगों को एक सप्ताह में पूरा करने के आश्वासन पर गतिरोध दूर हुआ।

आंदोलन में झामुमो के शैलेन सरदार, वमिल दास, राजू मुर्मू, जीतराई, भुगलु टुडू, हीरामणि मुर्मू, कांग्रेस के पूर्व प्रदेश सचवि सुबोध सिंह सरदार, एनसीपी के तारिणी सेन मांझी, आदिवासी मूलवासी विकास परिषद के निरूप हांसदा, झाविमो के शंकर मंडल एवं जूनियर मनोज सरदार आदि मौजूद रहे। प्रखंड में स्थिति बेलगाम : पार्षद पार्षद संजीव सरदार एवं झामुमो प्रखंड अध्यक्ष सुधीर सोरेन ने कहा कि प्रखंड में स्थिति बेलगाम है। पदाधिकारी किसी की नहीं सुनते। झामुमो पार्टी की सरकार चल रही है।

ऐसे में जनता का काम नहीं होना, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की सीधी बदनामी है। पार्टी के सिपाही के कारण ऐसा बर्दाश्त नहीं करेंगे। रशि्वत मांगने का आरोप निराधार : बीपीओ मनरेगा की बीपीओ माला कुमारी ने मनरोगा योजना जिले को भेजने के नाम पर घूस मांगने के आरोप को सीधे नकारा है।

बीपीओ ने कहा कि आरोप बेबूनियाद हैं। बीडीओ द्वारा भूलवश हस्ताक्षर नहीं होने से दो गांवों की प्रस्वावित योजना जिला नहीं भेजी जा सकी।

गलती हुई होगी : बीडीओ बीडीओ पायल राज ने कहा कि हजारों योजना की सूची में दो गांवों की योजना भूलवश छूट गयी होगी। एक सप्ताह में सारी मांगें पूरी करने का प्रयास करूंगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:झामुमो कार्यकर्ताओं ने बीपीओ को पांच घंटे तक रखा बंधक