DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रिक्त पदों पर भर्ती नहीं होने से प्रभावित हो रहा

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। बिहार में वर्ष 2013 में संयुक्त सचिव के 58 एवं विशेष सचिव के 5 पद रिक्त रह गए। इन पदों पर प्रोन्नति नहीं होने से सरकार का काम प्रभावित हो रहा है। यह बातें बिहार प्रशासनिक सेवा संघ के महासचवि सुशील कुमार ने शुक्रवार को जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कही। उन्होंने बताया कि मूल कोटि में 21, 20, 18, 17, 16, 14 और 13 वर्ष की सेवा अवधि पूरी होने के बाद भी पिछले चार सालों में मूल कोटि से उप सचवि स्तर में एक भी प्रोन्नति नहीं हो पाई है।

इससे पदाधिकारियों का मनोबल गिर रहा है। उन्होंने कहा कि भारतीय प्रशासनिक सेवा के पदाधिकारियों के लिए इस वर्ष 1 जनवरी को देय प्रोन्नति की सभी प्रक्रिया 31 दिसंबर 2013 तक पूरी कर ली गई, लेकिन बिहार प्रशासनिक सेवा के पदाधिकारियों को इस वर्ष एक जनवरी तक दी जाने वाली प्रोन्नति के संदर्भ में अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

छह माह की अवधि पूरी करने की शर्त पर प्रोन्नति होने से विशेष सचिव की 26, अपर सचिव की 45, संयुक्त सचिव की 117, अपर समाहर्ता की 125, उप सचवि की 133 रिक्तियां उपलब्ध होंगी।

इससे संयुक्त सचिव/अपर सचिव/विशेष सचिव जैस उच्च पदों के खाली पड़े पद भरे जा सकेंगे। इस तरह मूल कोटि में पिछले चार साल से आई निष्क्रियता भी खत्म हो सकती है। संघ ने राज्य सरकार से मांग की कि छह माह की अवधि पूरी होने की शर्त पर प्रोन्नति दी जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रिक्त पदों पर भर्ती नहीं होने से प्रभावित हो रहा