DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भ्रष्टाचार साबित हुआ तो होंगे बर्खास्त : वृशिण

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। परिवहन मंत्री वृशिण पटेल ने कहा कि भ्रष्टचार के आरोप सिद्ध होते ही अफसरों व कर्मचारियों को बर्खास्त किया जा रहा है। कई सेवानिवृत्त कर्मचारियों की पेंशन भी रोकी गई है। भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए विभाग ने मुख्यालय में एक हेल्पलाइन शुरू की है, जिसका नं. 0612-3212534, फैक्स नं. 0612-2546212 एवं ईमेल है।

विभाग की योजना है भ्रष्टाचार की शिकायत मिलते ही ऐसे अफसरों को बाहर का रास्ता दिखाया जाए, ताकि अन्य कर्मचारियों में मैसेज जाए। शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में मंत्री ने कहा कि मुजफ्फरपुर के प्रवर्तन अवर निरीक्षक त्रिभुवन राय के खिलाफ भी आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का आरोप था।

परिवहन विभाग ने उन्हें सेवा से बर्खास्त कर दिया। गया के डोभी में पदस्थापित प्रवर्तन अवर पदाधिकारी अर्जुन प्रसाद के ठिकानों पर नगिरानी अन्वेषण ब्यूरो की टीम ने धावा बोला और 5 करोड़ 19 लाख, 73 हजार, 942 रुपए आय से अधिक संपत्ति का खुलासा किया।

ब्यूरो ने अर्जुन प्रसाद के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज किया है। इसी तरह दरभंगा के एमवीआई गिरीश कुमार के ठिकानों पर भी नगिरानी अन्वेषण ब्यूरो टीम ने छापेमारी की और 3 करोड़ 44 लाख, 22 हजार, 539 रुपए आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज किया गया। बताया कि मो. युनूस कैमूर मोहनियां में प्रवर्तन अवर निरीक्षक के पद पर कार्यरत थे। आर्थिक अपराध इकाई ने उनके ठिकानों पर छापेमारी की और करोड़ो की संपत्ति का खुलासा हुआ।

परिवहन विभाग ने विभागीय कार्रवाई करते हुए उन्हें बर्खास्त कर दिया है। भागलपुर में मोटरयान निरीक्षक (एमवीआई) के पद पर कार्यरत विपिनकांत तिवारी को कुछ साल पहले सासाराम में एमवीआई के पद पर तैनाती के दौरान निगरानी ने रिश्वत लेते दबोचा था। उन्हें भी सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भ्रष्टाचार साबित हुआ तो होंगे बर्खास्त : वृशिण