अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुछ को तो यह भी नसीब नहीं

ढिंढोरा पीटना बेईमानी देश में कल तक चुनावी महापर्व चल रहा था। लोगों को जागरूक किया जा रहा था, लेकिन इन सबके बाद भी मतदान का प्रतिशत कम रहा। पूर देश में हुए मतदान का प्रतिशत 60 प्रतिशत से कम रहा है। इससे यह जाहिर होता है हम पूरी दुनिया में लोकतंत्र का जो ढिंढोरा पीटते हैं, वह बेईमानी है। दिलीप गुप्ता, वमनपुरी, बरली महात्मा पर दुरात्मा भारी ‘हिन्दुस्तान’ में छपी खबर ‘महात्मा की सड़क पर दुरात्माओं का राज’ पढ़कर अत्यंत दुख हुआ। महात्मा गांधी के विचारों के साथ यह विरोधाभास इन दिनों विजय माल्या खराब किंग के रूप में भी सामने आया था। यह अहिंसा एवं सत्य के पुजारियों के साथ क्रूर मजाक है। कुछ दिनों पहले एक अमेरिकी छात्रा का गांधी की वेशभूषा में अश्लील हरकतों का प्रकरण भी सामने आया था। ये घटनाएं समाज में हो रहे नैतिक पतन का द्योतक हैं। दक्षिण अफ्रीका के लोगों में गांधी की निष्ठा पर सवाल नहीं उठाए जा सकते, परंतु डरबन में वेश्यावृत्ति और शराबखोरी वाले इलाके की सड़क का नाम बापू के नाम पर रखने के क्या अर्थ हैं? नेल्सन मंडेला जसे गांधीवादियों के देश में इस प्रकार की बातें असहा मालूम पड़ती हैं। दक्षिण अफ्रीका की सरकार को लोगों की भावनाओं का आदर करते इस सड़क का नाम कुछ और रखा जाना चाहिए। आदित्य, क्रिश्चियन कॉलोनी, दिल्ली दमदार कानून ही नहीं है महान भारत में दमदार कानून ही नहीं है, जिसका जीता-ाागता प्रमाण है कि माननीय अदालतों द्वारा संबंधित विभाग को समय-समय पर आदेश किया जाता है कि दिल्ली की सड़कों, गलियों से आवारा पशुओं को तुरंत हटवाया जाए, लेकिन आज तक आदेश का पालन हो ही नहीं पाया और आवारा पशुओं की कदमताल दिन-रात जारी है। रोशन लाल बाली, महरौली, नई दिल्ली बाकी सब बकवास पांच साल परड्ढr ठप्पा मारड्ढr लोकतंत्र का तोपड्ढr और वचन काड्ढr मालिक देखोड्ढr बन बैठा है पोपड्ढr बचन बाण सेड्ढr जीत रहे हैं,ड्ढr बड़े-बड़े हथियारड्ढr पूरा भारत जीत दिखाते,ड्ढr भाषण के व्यापार। फूलो, फारविस गंज, बिहार

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कुछ को तो यह भी नसीब नहीं