अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैसिलास के करिश्मे से स्पेन जीता

विश्व चैम्पियन इटली को पेनल्टी शूटआउट में 4-2 से शिकस्त देकर स्पेन यूरो कप फुटबॉल टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंच गया है। स्पेन की जीत के हीरो गोलकीपर आइकर कैसिलास रहे जिन्होंने पेनल्टी शूटआउट में दो शानदार बचाव करके इटली की उम्म्मीदों पर पानी फेर दिया। स्पेन के मिडफील्डर सेस्क फेब्रेगास ने आखिरी गोल दागकर तकरीबन ढाई दशक बाद अपनी टीम को किसी प्रमुख टूर्नामेंट के अंतिम चार में पहुंचा दिया। वर्ष 1े बाद यह पहला मौका है जब स्पेन किसी बड़े टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंचा है। इसके पूर्व वह 24 साल पहले यूरोपीय चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंचा था। उसके बाद वह तीन प्रमुख टूर्नामेंटों के क्वार्टर फाइनल मुकाबलों में हारकर बाहर हो गया था और यह एक संयोग है कि तीनों ही बार उसे 22 जून को शिकस्त का सामना करना पड़ा था। रविवार को खेले गए क्वार्टर फाइनल मुकाबले में मजबूत इरादे के साथ उतरी दोनों टीमें एकदूसरे की पुख्ता किलेबंदी को भेद नहीं सकीं नतीजतन निर्धारित एवं अतिरिक्त समय में भी कोई टीम गोल नहीं कर सकी। इसके बाद पेनल्टी शूटआउट में आखिरकार स्पेन ने 4-2 से बाजी मार ली। क्वार्टर फाइनल मुकाबले में स्पेन को मिली विजय उसकी ओलम्पिक खेलों से इतर किसी प्रमुख टूर्नामेंट में इटली के खिलाफ मिली पहली जीत है। सेमीफाइनल में स्पेन का मुकाबला रूस से होगा जिसे उसने शुरुआती ग्रुप मैच में 4-1 से धोया था। स्पेन यूरो कप टूर्नामेंट के अपने ग्रुप में सबसे ऊपर रहकर सेमीफाइनल में पहुंचने वाली एकमात्र टीम है। इससे पहले अपने-अपने ग्रुप में शीर्ष पर रही पुर्तगाल, क्रोएशिया और हॉलैंड की टीमें क्र्वाटर फाइनल मुकाबलों में हारकर बाहर हो चुकी हैं। मैच के पहले हाफ में स्पेन के खिलाड़ियों में तालमेल की कमी नजर आई। मगर दूसरे हाफ में उन्होंने अपने खेल में सुधार किया। लेकिन वे कोई गोल नहीं कर सके। बाद में कोच लुइस अरागोनस ने सेस्क फेब्रिगास और सांति कैजोरा को मैदान पर भेजकर बेहतर परिणाम के लिए नया टीम संयोजन बनाने की नाकाम कोशिश की। दोनों ही टीमों को गोल करने के कई सुनहरे अवसर मिले मगर भाग्य ने उनका साथ नहीं दिया। इटली के स्थानापन्न खिलाड़ी मौरो कैमोरानेसी के तगड़े शॉट को गोलकीपर कैसिलास ने शानदार ढंग से रोक लिया जबकि स्पेन के मिडफील्डर माकरेस सेन्ना की लम्बी किक को गियानलूगी बफन गोलपोस्ट में डालने में नाकाम रहे। निर्धारित समय में मैच का नतीजा नहीं निकलने पर दो अन्य क्वार्टर फाइनल मुकाबलों की तरह इस मैच में भी आखिरकार अतिरिक्त समय दिया गया। खेल के इस हिस्से में स्पेन ने अधिक आक्रामकता दिखाई मगर दोनों ही टीमों की गोल करने में नाकामी मैच को पेनल्टी शूटआउट तक ले गई। रोमांच से भरपूर शूटआउट में इटली के गोलकीपर डेनियल गीजा ने बफेन का शॉट तो रोक लिया मगर वह डेविड विला, सांति कैजोरला, सेन्ना और फेब्रिगास को गोल करने से नहीं रोक सके। इटली ने दो गोल किए मगर स्पेन के गोलकीपर कैसिलास ने डेनियल डि रोजी और एंटोनियो डी नटेल के शॉट को नाकाम करके अपनी टीम को सेमीफाइनल में पहुंचा दिया।ड्ढr जीत से उल्लसित कैसिलास ने कहा, ‘हम जीते क्योंकि हम इसके हकदार थे। पेनल्टी शूटआउट में एक और हार हमारे लिए दुस्वप्न सरीखी होती। अब हमारे प्रशंसक खुशी मना सकते हैं क्योंकि हम सेमीफाइनल में पहुंच चुके हैं। स्पेन के कोच अरागोनस ने कहा, ‘मैच का पलड़ा बराबरी पर था। इटली से मुकाबला हमेशा मुश्किल होता है और मध्यांतर के बाद तो वह और भी खतरनाक हो जाती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कैसिलास के करिश्मे से स्पेन जीता