अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एशियाई टीमों के बीच जंग आज से

वनडे अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में एशिया में सर्वश्रेष्ठ टीम कौन सी है, ये साबित करने के लिए एशिया की पांच टीमें मंगलवार से यहां जोर-आजमाइश के लिए उतरंगी। चार साल के बाद हो रहे टूर्नामेंट में सभी टीमें धन से ज्यादा राष्ट्र के सम्मान के लिए खेलेंगी। टूर्नामेंट के उद्घाटन मैच में जहां लाहौर में बांग्लादेश की टीम संयुक्त अरब अमिरात-यूएई से भिड़ेगी, वहीं कराची में मेजबान पाक के सामने होगी कमजोर हांगकांग की टीम। भारत को पहला मैच बुधवार को हांगकांग से खेलना है। हांगकांग के कप्तान तबारुक डार का मानना है कि उनकी टीम अपने ग्रुप के मजबूत प्रतिद्वंद्वियों को चुनौती देने की कोशिश करेगी। डार ने कहा, ‘हम पार्टटाइम क्रिकेटर्स हैं। लेकिन हम यहां छुट्टियां मनाने नहीं आए हैं। हम किसी भी टीम से शर्मनाक पराजय का सामना नहीं करना चाहते। हम लड़ने की पूरी कोशिश करंगे।’ असली टक्कर भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच होगी जबकि हांगकांग, यूएई और बांग्लादेश को बाकी मैचों से कुछ अनुभव लेने का मौका मिलेगा। भारत इसी महीने बांग्लादेश में त्रिकोणीय सीरीा के खिताबी मुकाबले में पाक के हाथों शिकस्त का हिसाब भी इस टूर्नामेंट में चुकाना चाहेगा, ये देखते हुए दोनों टीमों में जोरदार भिड़ंत होने की उम्मीद है।ड्ढr वहीं दूसरी ओर बांग्लादेश में त्रिकोणीय सीरीा जीतने के बाद से पाकिस्तान की टीम का मनोबल भी काफी बढ़ा हुआ होगा और उसे घरलू स्थितियों का भी फायदा मिलेगा ही जिससे भारत और श्रीलंका के लिए मुश्किल बढ़ सकती है। माहेला जयवर्धने के नेतृत्व में खेलने वाली श्रीलंका की टीम ने अप्रैल में वेस्टइंडीा के खिलाफ 0-2 की सीरीा हार के बाद से कोई वनडे मैच नहीं खेला है। वह भी जीत की लय वापस पाने की कोशिश करगा। पाकिस्तान ने सीरीा के लिए अपने दल में तीन स्पिनर ऑलराउंडर रखें हैं, इसे देखते हुए कोई हैरानी की बात नहीं कि अन्य टीमें भी टीम में फिरकी गेंदबाज रखने पर जोर दें। एसे में बेशक भारत को स्पिनर हरभजन सिंह और तेज गेंदबाज श्रीसंत की कमी खल सकती है। हाल के दिनों में कुछ विदेशी टीमों द्वारा पाकिस्तान में खेलने से इनकार करने को देखते हुए मेजबान के लिए ये दो सप्ताह का टूर्नामेंट सकुशल सम्पन्न कराना कड़ी चुनौती होगा। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड भी इसके लिए अल्लाह से दुआ कर रहा होगा। फिर पाक इस टूर्नामेंट को सितंबर में होने वाले चैंपियंस ट्रॉफी की मेजबानी के रिहर्सल के रूप में भी देख रहा होगा और उसके लिए सुरक्षा प्रबंधों का जायजा लेने का मौका मिलेगा। छह देशों का ये टूर्नामेंट पिछले बार 2004 में श्रीलंका में हुआ था। उसके बाद भारत और पाक के बीच राजनीतिक कारणों के चलते इसमें रुकावट पड़ गई। (एजेंसियां)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एशियाई टीमों के बीच जंग आज से