अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऊचचंची तेल कचचीमतों ने बढ़ाया व्यापार घाटा: कमलनाथ

पेट्रोलियम पदार्थो के तेजी से बढ़ते दाम अब देश के विदेश व्यापार पर भी कहर बरपाने लगे हैं। महंगे कच्चे तेल आयात से व्यापार घाटे के खाई और चौड़ी होने लगी है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री कमलनाथ ने स्वीकार किया कि ऊंची तेल कीमतों से व्यापार घाटा बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि पेट्रोलियम पदार्थो की लगातार बढ़ती कीमतें व्यापार घाटे पर असर डाल रही हैं। सिंगापुर के व्यापार मंत्री लियॉन हंग कियांग के साथ आयोजित द्विपक्षीय बैठक के बाद कमलनाथ संवाददाताओं के साथ बातचीत कर रहे थे। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले कमजोर पड़ते रुपए के बारे में पूछे जाने पर उनका कहना था कि डॉलर-रुपए की विनिमय दर बाजार में मांग और आपूर्ति के अनुसार तय होती है। सरकार का इसमें हस्तक्षेप कर रुपए को मजबूत बनाने का कोई इरादा नहीं है। डॉलर- रुपए की खरीद फरोख्त के मामले में बाजार में पूरी तरह पारदर्शिता है। इस साल अप्रैल में देश का निर्यात 31.5 प्रतिशत बढ़कर 14.40 अरब डॉलर तक पहुंच गया, लेकिन पेट्रोलियम पदार्थो के महंगे आयात के चलते इस दौरान व्यापार घाटा तेजी से बढ़ता हुआ अरब डॉलर तक पहुंच गया। (वार्ता)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ऊचचंची तेल कचचीमतोंसेव्यापार घाटा: कमलनाथ