DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भीषण समस्या और छुटपुट समाधान

अगली बार जब रल या सड़क मार्ग से बाहर जाएं तो खिड॥की के बाहर देखें। जब आप किसी बस्ती के पास से गुजरंगे तो आपको लाल हर प्लास्टिक के रंग के कूड़े के ढेर दिखाई देंगे। वहां की नालियों या पोखर को देखिये तो आपको काले रंग का गंदा पानी बहता दिखाई देगा। यह सब कुछ लगातार बढ़ता जा रहा है, क्योंकि हम एक मूल बात भूल गए हैं कि जहां कहीं भी मानव होगा वहां कूड़ा भी होगा ही। इसी के साथ आधुानिक युग की एक और बात हम भूल गए हैं कि पानी अगर इस्तेमाल होगा तो वह बर्बाद भी होगा ही। आजकल हमार घरों में जितना पानी आता है उसका 80 फीसदी बर्बाद होकर बह जाता है।मैँ यहां पर दो बाते रखना चाहती हूं। एक तो यह कि हमारी सारी चिंता पानी के बार में रहती है, उस पानी के बारे में नहीं जो बर्बाद होकर बह जाता है। दूसरी यह कि हम यह मानते हैं कि हमार पास सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट जसा समाधान है तो क्या समस्या। मुझे लगता है कि हमार योजनाविद इस बात को लेकर काफी चिंतित रहते हैं कि लोगों को पानी कैसे उपलब्ध कराया जाए। उन्हें इस पानी के दूसर हिस्से यानी गंदे पानी की चिंता नहीं रहती। एक बार यह सीवेज में बदल गया तो कहीं तो जाएगा ही। यह जमीन के भीतर चला जाता है और उस पानी को दूषित करता है जिसे लेाग पीते और इस्तेमाल करते हैं। इसलिए कोई हैरत नहीं है कि भूमिगत जल के हर सव्रेक्षण में नाइट्राइट की मात्रा बढ़ी हुई मिलती है। सीवेज से भूमिगत जल के प्रदूषित होने का यह सबसे पुख्ता प्रमाण है। दिल्ली और आगरा का उदाहरण लीजिए। ये दोनों शहर यमुना नदी के किनारे बसे हुए हैं। इन शहरों से नदी गुजरती है फिर भी वे पानी के लिए तरसते हैं। दिल्ली को तो 500 किलोमीटर दूर टिहरी बांध से पानी मिलने भी लगा है। आगरा भी पानी की अपनी जरूरत को पूरा करने के लिए टिहरी की ओर देख रहा है। दिल्ली यमुना के पानी को इस कदर प्रदूषित कर देती है कि फिर वह आगरा के पीने लायक ही नहीं रह जाता। आगरा को इसे साफ करने के लिए ढेर सारी क्लोरीन इस्तेमाल करनी पड़ती है। यहां के अधिकारियोंे का कहना है कि अगर पानी गंगा से आए तो वे काफी बचत कर लेंगे।ड्ढr यही त्रासदी है- हम परशानियों के महंगे दुष्चक्र में फंसे हुए हैं। जसे-ौसे भूजल और भूमिगत जल दूषित होता जा रहा है शहरोंे के पास पानी के नए संसाधन खोजने का कोई विकल्प नहीं है। यह खोज जसे-ौसे बढ़ेगी पानी को निकालने और उसकी आपूर्ति की लागत भी बढ़ेगी। आज के ज्यादातर शहर अपने जल आपूर्ति बजट का 50 से 70 फीसदी तक हिस्सा पानी को पंप करने के लिए बिजली पर खर्च कर रहे हैं। दूरी जसे-ौसे बढ़ती है पाइपलाइन को लगाने, उसका नेटवर्क बनाने और देखरख करने की लागत बढ़ने लगती है। और अगर नेटवर्क की देखरख न की गई तो पानी की बर्बादी बढ़ जाती है। आज ज्यादातर नगरपालिकाओं की आधिकारिक रपटें यही कहती हैं कि उनका 30-50 फीसदी पानी लीकेा़ की वजह से बर्बाद हो जाता है। इस सबका अर्थ हुआ कम आूपर्ति और ज्यादा खर्च। इसी के साथ मल और कचर की समस्या भी है। हमार पास इसके राष्ट्रीय आंकड़े नहीं हैं। हमें नहीं पता कि देश में कितना मल और कचरा पैदा होता है, कितने का ट्रीटमेंट होता है और कितने का नहीं। सच तो यह है कि शहरों के सीवेज का अनुमान लगाने का हमार पास कोई तरीका नहीं है। क्योंकि देश में लोग अलग-अलग तरह से पानी हासिल करते हैं और अलग-अलग तरह से ही कचर का निस्तारण करते हैं।ड्ढr फिलहाल हम सीवेज का आकलन बहुत ही पुराने ढंग से करते हैं। हम मानकर चलते हें कि नगरपालिका जितने पानी की आपूर्ति करती है उसका 70-80 फीसदी सीवेज के रूप में लौट आता है। समस्या यह है कि पानी का यह गणित सही नहीं है। जब या जहां पानी की आपूर्ति नहीं होती लोग या तो भूमिगत पानी का इस्तेमाल करते हैं या फिर प्राइवेट टैंकर से पानी खरीदते हैं। यह सारा पानी सीवेज में जाता है। वह चाहे जिस रास्ते से आता हो।ड्ढr लेकिन यह समस्या का सिर्फ एक पहलू है। फिलहाल देश में कचर का अधिकतम 18 फीसदी ट्रीटमेंट ही हो सकता है। लेकिन यह हर कोई मानता है कि इनमें से कुछ संयंत्र भारी लागत और बिजली व रसायन की कमी की वजह से काम नहीं करते। क्योंकि पानी की पाइपलाइन की तरह ही सीवेज की पाइपलाइन की भी देख-रख करनी होती है। हमार नए और पुराने दोनों ही तरह के कई शहरों में भूमिगत सीवरा व्यवस्था नहीं है और जहां हैं वहा पाइप पुराने पड़ चुके हैं काम नहीं करते। अगर इन सार तथ्यों को जोड़ दिया जाए तो देश अपने 13 फीसदी कचर का ही निस्तारण कर पाता है। और इसमें यह होता है कि हम जिसे काफी महंगे तरीके से ट्रीट करते हैँ उसे फिर से बिना ट्रीट किए हुए सीवेज में मिला दिया जाता है। यह हाल भी तब है जब नगरपालिकाएं अपनी पानी सप्लाई की ही लागत नहीं निकाल पा रही, सीवेज ट्रीटमेंट को तो खर भूल ही जाएं।ड्ढr नतीजा है प्रदूषण। अतुल्य भारत कचर के ढेर मे पड़ा है।ड्ढr सच तो यह है कि हम जो पानी इस्तेमाल करते हैं, हम जो सीवेज पैदा करते हैं, हम जिस सीवेज को ट्रीट करते हैं, और जिसे बिना ट्रीट किए ही पानी में बहा देते हैं उन सबके लिए हमारी व्यवस्थाएं पर्याप्त नहीं हैं। हमारी नदियों में इस कचर को समायेाजित करने लायक पानी लगातार कम हो रहा है। इसके लिए हमें अलग ढंग से सोचना होगा। पहले तो हमें घरों तक पानी पहुंचाने के खर्च को कम करना होगा। इसका तरीका है कि पाइपलाइन की लंबाई कम की जाए। इससे लीकेज भी कम होगी। साथ ही इस काम में बिजली और पंपिंग का इस्तेमाल कम हो। इसका मतलब हुआ कि हमें स्थानीय जल संसाधनों का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करना होगा, भूमिगत जल को रिचार्ज करना होगा।ड्ढr यह जरूरी है कि हमार जल संसाधन हमार करीब ही हों। फिर हमें घरों में भी पानी का इस्तेमाल कम करना होगा। कम इस्तेमाल का मतलब है कम पानी का ट्रीटमेंट। फिर हमें सीवेज निस्तारण की लागत को भी कम करना होगा। और अंत में हमें यह इंतजाम भी बनाना होगा कि पानी की हर बूंद को इस्तेमाल करने के बाद इसे रिसाइकिल कर सकें।ड्ढr लेखिका सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट की निदेशिका हैंड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भीषण समस्या और छुटपुट समाधान