DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कंट्रोल ही नहीं होता

साझा सरकार के घोषणापत्र इस बात में कोई दो राय नहीं कि आगामी चुनाव परिणामों में किसी एक राष्ट्रीय पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलेगा। लिहाजा साझा सरकार बननी तय है। इसलिए चुनाव के बाद राजनैतिक यथार्थ में ये घोषणापत्र लंबी-चौड़ी बातों के बावजूद रद्दी के भाव बेचने लायक ही रह जायेंगे, क्योंकि इसके बाद जो सरकार बनेगी उसमें किसी एक दल के घोषणापत्र पर काम होने से रहा। अत: उनका यह घोषणापत्र मात्र वोट खींचने और लोकलुभावन वादे करने वाले कागज से ज्यादा नहीं होता। वैसे भी साझा सरकारों का भविष्य तो सदैव ही अधर में लटका दिखाई देता है। अत: राष्ट्रीय पार्टियों और राजनेताओं को जनहित में काम और देश हित को सवरेपरि मानना होगा। भानुप्रकाश नेगी, मासकॉम, देहरादून क्रिकेटरों की मंडी बाजार लग चुका है। खेल की दुंदुभी बज चुकी है। दिल्ली के दिलेर डेविल्स, मुंबई के राजा इंडियन्स, चेन्नई के बाघ बहादुर, पंचाबी शेर धुरंधर, कोलकाता के रातों के राहगीर सब अपनी-अपनी दुकानें सजा चुके हैं। होगा क्या? सहवाग इरफान को ठोकेगा! युवराज के छक्के सचिन छुड़ाएगा! धोनी के धुरंधरों का बदला अब सौरव दादा ले ही लेगा। भई क्या जमाना आ गया है। भाई-भाई को धोएगा-पीटेगा-निचोड़ेगा और मंकी तक बोलेगा। क्रिकेटरों की मंडी में यह तो होना ही है। हिरण्य हिमकर, शोध छात्र, डी यू बढ़ रही हैं आत्महत्याएं? शहर हो या गांव, हर शख्स परशान है। यह परशानी ही लोगों की जान की दुश्मन बनती जा रही है। राजधानी की ही बात करं तो यहां आए दिन खुदकुशी की घटनाएं हो रही हैं। ऐसा क्यों हो रहा है, इस पर समाज को सोचना चाहिए। आजकल भौतिकवाद बढ़ रहा है। सामाजिक तानाबाना टूट रहे हैं। ऐसे में कई तरह की उलझनें पैदा हो रही हैं, जो मानसिक तनाव का कारण बन जाती हैं। यही तनाव आगे चलकर कई बार खुदकुशी का कारण भी बन जाता है। महिपाल सिंह, रामदरबार, चंडीगढ़ सुरक्षित नहीं महिलाएं बढ़ते अपराध कामकाजी महिलाओं तथा लड़कियों के लिये परशानी का सबब बन गये हैं। सुबह घर से काम के लिए निकल तो जाती हैं, लेकिन डर लगा रहता है कि कहीं हमार साथ कोई घटना न घटित हो जाए और सायं को वापस परिवार से मिल सकेंगी या नहीं, इसी परशानी में वह सार दिन डूबी रहती हैं। जसे-ौसे देश प्रगति की ओर अग्रसर हो रहा है, वैसे-वैसे महिलाओं के प्रति व्यवहार में बदलाव आ रहा है, लेकिन यह बदलाव सकारात्मक नहीं नकारात्मक है। प्रेरणा पवार, मासकॉम, देहरादून

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कंट्रोल ही नहीं होता