अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टास्क पूरा नहीं करने पर डीएसई को फटकार

मानव संसाधन विकास विकास विभाग ने ‘टास्क’ पूरा नहीं करने के लिए जिला शिक्षा अधीक्षकों (डीएसई) को जमकर फटकार लगायी। उन्हें इसे कम्प्लीट करने के लिए 5 जुलाई तक का समय दिया गया है। यदि इस समय सीमा में भी काम की प्रगति संतोषजनक नहीं पाई गई संबंधित जिलों के डीएसई के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। बुधवार को बुलाई गई डीएसई और आरडीडीई की राज्यस्तरीय समीक्षा बैठक में शिक्षकों के सामंजन और प्रवरण वेतनमान देने के मामले में अधिसंख्य जिलों की प्रगति काफी लचर पाई गई जबकि दूसर चरण की शिक्षक बहाली के लिए ये काफी महत्वपूर्ण मुद्दे हैं। जानकारी के मुताबिक शिक्षक पदों के समंजन के मामले में विभाग को मिली रिपोर्ट के मुताबिक सिर्फ 17 जिले ही इस काम को शुरू कर पाए हैं।ड्ढr ड्ढr इनमें सिर्फ किशनगंज, पूर्णिया और वैशाली की ही प्रगति सही है। बाकी 14 जिलों में भी यह काम आंशिक रूप में हो पाया है। वहीं अन्य जिलों ने तो अभी इसे शुरू भी नहीं किया है। इसी तरह प्रारम्भिक स्कूलों के शिक्षकों को प्रवरण (सीनियर सेलेक्शन गड्र के समकक्ष) वेतनमान में प्रोन्नति के मामले में किसी भी जिले ने विभाग के दुबारा दिए गए आदेश का भी पालान नहीं किया है। इसे लेकर विभाग ने काफी सख्त तेवर अपनाए और कहा कि 5 जुलाई तक यह काम सभी जिलों ने पूरा नहीं किया तो माना जाएगा कि वहां के डीएसई जानबूझकर इसे लटकाना चाहते हैं और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। इस पर 7 जिलों ने वायदा किया है कि इस बाबत मुकम्मल रिपोर्ट वे तय समय सीमा में सौंप देंगे। वहीं जनता दरबार में मुख्यमंत्री को मिली शिकायतों के निपटार के मामले में जिलों की प्रगति काफी संतोषजनक पाई गई। बैठक में प्रारम्भिक शिक्षा निदेशक अशोक कुमार सिंह, उप निदेशक आरएस सिंह, मुखदेव सिंह और अजीत साहा भी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: टास्क पूरा नहीं करने पर डीएसई को फटकार