DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकसभा चुनाव: राजनीतिक दलों में सरगर्मी तेज

लोकसभा चुनाव की आहट बिहार में महसूस करने के साथ ही राजनीतिक दलों में अंदर सरगरमी काफी तेज हो गई है। जदयू ने तो काफी पहले से चुनाव के लिए जमीनी कार्रवाई शुरू कर दी थी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद इसकी जिम्मेवारी उठा ली है। इसीलिए तो मंगलवार को आम कार्यकर्ताओं से मिलने के अपने कार्यक्रम के तहत मुख्यमंत्री अब लोकसभा क्षेत्र के हिसाब से लोगों से मिल रहे हैं। अबतक आधे दर्जन लोकसभा क्षेत्रों के कार्यकर्ताओं से मुख्यमंत्री मुलाकात कर चुके हैं।ड्ढr ड्ढr मुख्यमंत्री कार्यकर्ताओं से मुलाकात के क्रम में उनसे क्षेत्र की फीडबैक भी ले रहे हैं। यही नहीं वे उनसे सरकार की नाकामयाबियों की भी जानकारी ले रहे हैं, ताकि उसे दुरुस्त किया जा सके। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह लोकसभा चुनाव में पार्टी की सफलता के लिए जमीन तैयार कर रहे हैं। पार्टी कार्यालय में वे पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ताओं के साथ-साथ पार्टी पदाधिकारियों को टिप्स दे रहे हैं। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को गांव-गांव अभियान चलाने की भी नसीहत दी है। पार्टी महंगाई को मुद्दा बनाकर पहले से ही केन्द्र की यूपीए सरकार के खिलाफ आंदोलन के क्रम में लोकसभा चुनाव की पृष्ठभूमि तैयार कर रही है। उधर पार्टी के विभिन्न प्रकोष्ठ भी चुनावी समर का बिगुल फूंकते हुए विरोधियों से दो-दो हाथ करने की तैयारी में हैं। अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के अध्यक्ष चन्देश्वर चन्द्रवंशी खुद जिला-जिला सम्मेलन कर पार्टी कार्यकर्ताओं को ‘चार्ज’ कर रहे हैं। इस क्रम में वे आधा बिहार घूम चुके हैं और जुलाई तक पूरा बिहार घूम लेंगे। दलित प्रकोष्ठ के अध्यक्ष भूदेव चौधरी, युवा प्रकोष्ठ के सुनील कुमार, व्यावसायिक प्रकोष्ठ के डॉ. जगन्नाथ गुप्ता, किसान प्रकोष्ठ के अशोक वर्मा, महिला प्रकोष्ठ की उषा सिंह, छात्र प्रकोष्ठ के अरविन्द निषाद भी अपनी-अपनी सेना लेकर पार्टी लाइन पर आंदोलनरत हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लोकसभा चुनाव: राजनीतिक दलों में सरगर्मी तेज