अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महान समाजसेवी हैं सूरचाभान:पासवान

ेन्द्रीय मंत्री और लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामविलास पासवान ने सांसद सूरजभान की सजा को पार्टी के लिए बड़ा झटका बताया है। बुधवार को प्रदेश लोजपा कार्यालय में संवाददाताओं से बात करते हुए उन्होंने कहा कि सूरजभान महान समाजसेवी हैं। पूरी पार्टी उनके साथ है। श्री पासवान ने यूपीए सरकार से समर्थन वापस लेने वाली उत्तरप्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती को ‘ब्लैकमेलर’ बताया और कहा कि केन्द्र की सरकार पर कोई खतरा नहीं है।ड्ढr ड्ढr सांसद सूरजभान को दी गयी सजा के संबंध में पूछे जाने पर श्री पासवान ने कहा कि हम उनका अतीत तो नहीं जानते लेकिन उनके वर्तमान के संबंध में यह दावा जरूर करेंगे कि सूरजभान से बड़ा समाज सेवक और गरीबों का हितैषी कोई दूसरा नहीं है। श्री पासवान ने कोर्ट के निर्णय पर कोई टिप्पणी करने से साफ इंकार कर दिया। परमाणु करार को लेकर कांग्रस और वामदलों की रस्साकशी के संबंध में उन्होंने कहा कि ताजा परमाणु समझौते को लेकर वाम दलों के साथ कुछ अड़चन जरूर है लेकिन यह सरकार के लिए कोई खतरा नहीं। केन्द्र की सरकार अपना कार्यकाल पूरा करगी।ड्ढr जो यह मानते हैं कि सरकार जल्द गिर जायेगी वे हाथ मलते रह जायेंगे। बसपा की नेता मायावती के समर्थन वापसी से भी कोई फर्क नहीं पड़ने वाला। वह तो पहले भी ब्लैकमेल करती थीं और इस बार भी वही किया है।ड्ढr ड्ढr तीन दर्जन मुकदमे हैं विचाराधीनड्ढr विनायक विजेता पटनाड्ढr पहले राजनीति का अपराधीकरण उसके बाद अपराधियों का राजनीतिकरण और अब न्यायालय के फैसले के बाद उसमें हो रहे शुद्धीकरण से लोजपा सांसद सूराभान सहित उन तमाम बाहुबलियों की मुश्कि लें बढ़ा दी है जो संगीन मामलों में अदालत के फैसले का इन्तजार कर रहे हैं। 16 जनवरी 1ो हुए रामी सिंह हत्या कांड में उम्र कैद की सजा पाने वाले सूराभान उर्फ सूर्या उर्फ दादा की मुश्किलें आने वाले दिनों में और बढ़ सकती है। राजनीति में आने, विधायक और फिर सांसद बनने के पूर्व और बाद में सूराभान पर भारतीय दंड विधान की लगभग सभी संगीन धाराओं में लगभग तीन दर्जन मुकदमें दर्ज हैं। राजद सांसद शहाबुद्दीन के बाद सूराभान बिहार के दूुसर ऐसे सांसद है जिनपर इतने मुकदमे दर्ज हैं। इनपर बेगूसराय में अभी नौ मुकदमें विचाराधीन हैं।ड्ढr ड्ढr इसके अलावा मोकामा थाना में सर्वाधिक 1मामले दर्ज हैं। इसके अलावा 8 नवम्बर 2007 को बेगूसराय में एपीपी रामनरश शर्मा की हत्या सहित सूराभान पर बिहारशरीफ, पटना और गोरखपुर में भी कई संज्ञेय मामले दर्ज हैं। रामी सिंह हत्याकांड में उम्र कैद की सजा पाकर सूराभान जी कृ ष्णया और अजीत सरकार हत्याकांड में सजा पाने वाले उन बाहुबली राजनेताओं की श्रेणी में आ गए हैं जिन्हे पूर्व में फांसी या उम्रकैद की सजा सुनायी गई है। अपराधियों के राजनीतिकरण में अदालती फै सले से हो रहे शुद्धीकरण ने वैसे कई बाहुबलियों की नींदे उड़ा दी है। ऐसे राजनेताओं में सुनील पांडेय, मुन्ना शुक्ला, धुमल सिंह, रामा सिंह, प्रभुनाथ सिंह व शहाबुद्दीन सरीखे एक दर्जन नेताओं का नाम शुमार है। बाहुबली माने जाने वाले अनंत सिंह इस मामले में खुशकिस्मत हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: महान समाजसेवी हैं सूरचाभान:पासवान