DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

करार पर माथापच्ची बेनतीजा रही

एटमी डील पर बुधवार को दिन भर की माथापच्ची के बाद संप्रग और वाम दलों ने शाम को हुई बैठक में बीच का रास्ता अपनाते हुए एक बार फिर मिलने का फैसला किया है। संप्रग-वाम समन्वय समिति की बैठक में यह तय हुआ कि संप्रग-वाम परमाणु पैनल डील पहले अपनी सिफारिशें सरकार को सौंपेगा, फिर आगे विचार होगा। बैठक में करार के कई पहलुओं पर चर्चा हुई। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने समिति की बैठक के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ इस मुद्दे पर विचार-विमर्श किया।ड्ढr ड्ढr बैठक में रक्षा मंत्री ए के एंटनी और कांग्रेस अध्यक्ष के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल भी मौजूद थे। सूत्रों के अनुसार मुखर्जी और एंटनी ने बैठक में हुए विचार विमर्श के बार में जानकारी दी। बैठक के बाद माकपा नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि इस मुद्दे पर अगली बैठक कुछ ही दिनों में होगी। शरद पवार को छोड़कर समिति के सभी सदस्यों ने भाग लिया। पवार इस समय विदेश में हैं। जब समिति बनी थी तो फैसला हुआ था उसकी सिफारिशों के आधार पर सरकार डील को आगे बढ़ा सकती है। बैठक से पहले माकपा नेता प्रकाश करात ने विदेश मंत्री प्रणव मुखर्जी और सपा नेता मुलायम सिंह से अलग बातचीत की। मुखर्जी से बातचीत के दौरान रक्षा मंत्री एके एंटनी भी मौजूद थे। बाद में एंटनी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने उनके आवास पर गए। भाकपा नेता एबी बर्धन ने कहा कि वाम दल डील के खिलाफ हैं। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को करार पर एटमी डील को परवान चढ़ाने की जिद नहीं करनी चाहिए। इस बीच, अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने फिर याद दिलाया है कि एटमी डील महत्वपूर्ण समझौता है। उन्होंने कहा, ‘वह इस मामले में प्रगति चाहते हैं।’ व्हाइट हाउस प्रेस सचिव पेरिनो ने बताया कि राष्ट्रपति करार की पल-पल की खबर से वाकिफ रहना चाहते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: करार पर माथापच्ची बेनतीजा रही