DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कार खड़ी करने को लेकर विवाद

‘हिन्दुस्तान’ में पटना जंक्शन प्रशासन की कुंभकर्णी निद्रा की खबर छपने के बाद बुधवार को मामूली हरकत दिखी और सिर्फ प्लेटफॉर्म संख्या एक पर ही पीले रंग से डिमार्केशन किया गया। इसके अलावा थोड़ी बहुत तेजी साफ-सफाई में दिखी और स्थिति में ज्यादा परिवर्तन नहीं आया। पार्किंग परिसर की स्थिति सुधारने के अभियान के दौरान बुधवार की रात करीब 8 बजे उस समय अजीबोगरीब स्थिति उत्पन्न हो गई जब सड़क पर कार खड़ा करने को लेकर लोक सभा के डिप्टी डायरक्टर संजय कुमार और एक आरपीएफ जवान के बीच विवाद हो गया। बाद में संजय ने जवान पर बुरा बर्ताव का आरोप लगाते हुए आरपीएफ पोस्ट में जाकर शिकायत दर्ज कराई।ड्ढr ड्ढr आरपीएफ अधिकारियों का कहना है कि जब संजय को उनकी गलतियां बताईं गई तो वे उपर तक मामला ले जाने की धमकी देने लगे। इधर आरोपित जवान का कहना था कि कार सवार ने पार्किंग स्थल के बाहर सड़क पर ही कार लगा दी। जब उसने निर्धारित जगह पर लगाने को कहा तो वे खुद को अधिकारी बताते हुए भड़क गये और नहीं हटाने पर अड़ गये। इस बाबत डिप्टी डायरक्टर से संपर्क स्थापित नहीं हो सका। बीच दानापुर मंडल के आरपीएफ कमांडेंट महेश्वर सिंह ने अभियान के निरीक्षण के क्रम में आरपीएफ अधिकारियों को अवैध पार्किंग के मामले में किसी तरह की कोई ढिलाई नहीं बरतने का निर्देश देते हुए रलवे एक्ट की धाराओं के तहत कार्रवाई करने को कहा है। अधिकारियों के मुताबिक रलवे एक्ट की धारा 15े तहत पार्किंग आदि मामले में जवान या अधिकारियों के आदेश या कानून की अवहेलना करने पर आरोपितों को कोर्ट से 500 रुपये अधिकतम जुर्माना या एक महीने तक कैद की सजा हो सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कार खड़ी करने को लेकर विवाद