DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आंदोलनकारियों से केस वापस होंगे

सीएम मधु कोड़ा ने कहा है कि आंदोलनकारियों पर दर्ज मुकदमे वापस लिये जायेंगे। उनकी पहचान के लिए तीन दिनों में कमेटी गठित कर दी जायेगी। इसमें आंदोलन से जुड़े नेताओं, गृह सचिव और डीाीपी शामिल होगे। कमेटी तमाम दावे को सूचीबद्ध करगी। दिवंगत आंदोलनकारियों सहित उनकी भी पहचान की जायेगी जो आंदोलन में शरीक तो हुए, लेकिन उन पर मुकदमे नहीं हुए।ड्ढr सीएम बुधवार को यहां झारखंड आंदोलनकारियों पर से मुकदमा उठाने को लेकर हुई सर्वदलीय बैठक के बाद मीडिया से बात कर रहे थे। बैठक में कांग्रेसी शामिल नहीं हुए। शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की और स्वास्थ्य मंत्री भानू प्रताप शाही भी नहीं आये। कोड़ा ने बताया कि तीन महीने के भीतर चरणबद्ध तरीके से मुकदमे वापस होंगे। उन्होंने कहा कि बैठक में यह बात उभर कर सामने आयी कि पहले जो मुकदमे वापस किये गये, उसमें वैसे लोग भी शामिल रहे जो आंदोलन में शरीक ही नहीं थे। वैसे लोग छूट गये, जिन्होंने वास्तव में अलग झारखंड की लड़ाई लड़ी। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने बताया कि पूर्व में एनडीए की सरकार द्वारा बनायी गयी कमेटी को ही पुनर्गठित किया जायेगा।ड्ढr बैठक के शिबू ने कहा कि आंदोलनकारियों पर से मुकदमा हटाने को सरकार वचनबद्ध है। बैठक में भाजपा की ओर से शामिल दिनेशानंद गोस्वामी ने रामजन्म भूमि आंदोलन के दौरान हुए मुकदमो को भी वापस लेने की मांग की। बैठक में स्टीफन मरांडी व सुधीर महतो, जोबा मांझी, हेमलाल मुरमू, सुदेश महतो, गिरिनाथ सिंह, सूरा मंडल, सूर्य सिंह बेसरा, जलेश्वर महतो, नज्म अंसारी, केडी सिंह, ज्ञानशंकर मजुमदार, राजेंद्र सिंह मुंडा, जयप्रकाश मिंज, देवशरण भगत, कमल किशोर भगत, विनोद भगत, भाजपा के मधुराम साहु और अन्य शामिल हुए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आंदोलनकारियों से केस वापस होंगे