अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जी-8 सम्मेलन क्योटो में शुरु

दुनिया के सबसे धनी देशों के संगठन जी-8 के विदेशमंत्रियों का दो दिवसीय सम्मेलन गुरुवार को क्योटो में शुरू हो गया।ड्ढr उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम के बारे संबंध में की जाने वाली संभावित घोषणा के कारण पूरी दुनिया की नजरे इस पर टिकी हुई हैं। उम्मीद है कि क्योटो बैठक में अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, कनाडा और जर्मनी परमाणु अप्रसार मुद्दे पर उत्तर कोरिया और ईरान को ‘एक बहुत कड़ा संदेश’ भेज सकते हैं। उधर चीन ने कहा है कि है कि उत्तर कोरिया गुरुवार तक अपने परमाणु कार्यक्रम के संबंध में घोषणा पेश कर सकता है। 10-80 के दशक में उत्तर कोरियाई एजेंटों द्वारा जापानी नागरिकों के अपहरण के साफ प्रमाणों के बावजूद उसको अमेरिका द्वारा आतंकवादी सूची से बाहर निकालने की संभावना से चिंतित जापान इस मामले में जी-8 के अन्य सदस्यों का सहयोग चाहता है। ड्ढr उत्तर कोरिया के साथ परमाणु मामले के प्रमुख वार्ताकार क्रिस्टोफर हिल ने भी सम्मेलन में शामिल प्रतिनिधियों से मुलाकात की है। सम्मेलन में अफगानिस्तान पर भी एक वक्तव्य जारी होने की आशा की जा रही है। जी-8 के सदस्य काबुल से आग्रह कर सकते हैं कि वह पाकिस्तान से सटी सीमा की सुरक्षा मजबूत करने के साथ ही भ्रष्टाचार और नशीली दवाओं से जुड़ी गतिविधियों को समाप्त करे। जापानी मीडिया के अनुसार द्विपक्षीय मुलाकातों के दौरान जापान के विदेशमंत्री मसाहिको कोउमुरा जिम्बाब्वे और म्यांमार जैसे मुद्दों पर भी चर्चा कर सकते हैं। जापान के उत्तरी द्वीप होकाइडो में 7-जुलाई को होने वाले जी-8 शिखर सम्मेलन से पहले की बैठकों की कड़ी में क्योटो सम्मेलन आखिरी है। जी-8 शिखर सम्मेलन में जलवायु परिवर्तन और विकास का मुद्दा प्रमुख रहेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जी-8 सम्मेलन क्योटो में शुरु