DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भूमि मुद्दे पर एनसी को सर्वदलीय बैठक अस्वीकृत

नेशनल कान्फ्रेंस (एनसी) ने जम्मू-कश्मीर के रायपाल एनएन वोहरा से श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) को हस्तांतरित भूमि को वापस करने का आग्रह करते हुए इस मुद्दे पर सर्वदलीय बैठक में भाग लेने से गुरुवार को इंकार कर दिया। राय के मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने बुधवार को इस मुद्दे पर एक सर्वदलीय बैठक बुलाने का सुझाव दिया था। एनसी के अध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने गुरुवार को रायपाल से मुलाकात करने के बाद कहा कि भूमि हस्तांतरण के मसले पर बड़े पैमाने पर हो रहे विरोध को देखते हुए अध्यक्ष, एसएएसबी के नाते रायपाल को भूमि तत्काल वापस कर देनी चाहिए। अब्दुल्ला ने कहा कि रायपाल से अनुरोध किया है कि इससे पहले की देर हो वर्तमान परिस्थितियों में राय में शांति-व्यवस्था कायम रखने के लिए एसएएसबी को हस्तांतरित भूमि को वापस कर दिया जाना चाहिए। अब्दुल्ला ने कहा कि हमने कभी भी एसएसबी को जमीन नहीं दी क्योंकि इसकी जरुरत नहीं महसूस की गई। यह समझ में नहीं आता कि आखिर यह भूमि क्यों दी गई। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समुदाय के लोग हमेशा से तीर्थयात्रियों की मदद करते रहे हैं। भारी हिमपात के समय भी अपनी जान को खतरे में डाल कर वे तीर्थयात्रियों की मदद करते हैं। इस दौरान वे अपने घरों को यात्रियों के लिए खोल देते हैं और इसके बदले में कोई शुल्क भी नही लेते हैं। अब्दुल्ला ने कहा कि इस मुद्दे पर पार्टी या मुख्यमंत्री द्वारा आयोजित इस बैठक में वे हिस्सा नहीं लेगें। मुख्यमंत्री इस मुद्दे का हल निकालने के बजाय लंबा खींचना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर वर्ष 2005 के बाद से सदन में चर्चा क्यों नही कराई गई।अब्दुल्ला ने कहा कि सही तरीके से नहीं निपटने के कारण यह मुद्दा यह क्षेत्रिय और साम्प्रदायिक बन गया है। उन्होंने कहा कि लोगों को शंका है कि राय सरकार बाहरी लोगों को जमीन देना चाहती है। राय में शांति और स्थायित्व के लिए राय सरकार को इस संबंध में स्पष्टीकरण देना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भूमि मुद्दे पर एनसी को सर्वदलीय बैठक अस्वीकृत