अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिविर लगा बनाए जाएंगे विकलांगता प्रमाण-पत्र

प्रखंड स्तर पर शिविर लगाकर विकलांगता प्रमाण-पत्र बनाया जाएगा। यह अभियान बरसात के बाद आरम्भ किया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्री नंदकिशोर यादव ने गुरुवार को इसकी घोषणा करते हुए कहा कि इससे विकलांगों को प्रमाण-पत्र लेने में काफी सहूलियत मिलेगी। उन्होंने कहा कि इसकी योजना बना ली गयी है। स्वास्थ्य मंत्री श्री यादव अंजुमन इस्लामिया हॉल में आयोजित ‘पोलियो उन्मूलन हेतु गठित राज्य स्तरीय रोटरी मुस्लिम उलेमा कमेटी के बैठक को संबोधित कर रहे थे।ड्ढr उन्होंने कहा कि विश्व के सिर्फ 4-5 देशों में पोलियो का वायरस संक्रमण फैला रहा है।ड्ढr ड्ढr इस वर्ष विश्व में 5नए पोलियो के मामले प्रकाश में आए हैं जिसमें भारत में 268 और देश में सर्वाधिक संक्र मित बच्चें बिहार और उत्तरप्रदेश के हैं। राज्य में चलाए जा रहे पोलियो अभियान की सफलता के लिए दूरवर्ती क्षेत्रों में भी बेसकैम्प बनाए गए है। बैठक को संबोधित करते हुए इमारत-ए-सरीया,पटना के महासचिव मौलाना अनिसुर्र रहमान कासमी का कहना था कि मजहब के अनुसार भी सबकी जिम्मेवारी बनती है कि बच्चों को दवा पिलायी जाए। धर्म यह कहता है कि धरती पर जितनी बीमारियां हैं उसके इलाज की भी व्यवस्था है। आवश्यकता है कि दवाओं की खोज की जाए। पोलियो का खुराक बार-बार इसलिए पिलाया जाना चाहिए क्योंकि बचपन में होनेवाली बीमारी से व्यक्ित ताउम्र विकलांग होकर जीता है। हालांकि मौलाना कासमी ने कहा कि अभियान तेज होने से पोलियो पीड़ितों की संख्या में हर तीन वर्ष कम हो जाती है। उसके बाद सुस्ती के कारण वायरस का प्रकोप बढ़ जाता है। कार्यक्रम को यूनिसेफ के डा.अनिसुर्र रहमान सिद्दीकी ने और रोटरी के मंडलाध्यक्ष डा. चिरंजीवि खंडेलवाल ने संबोधित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शिविर लगा बनाए जाएंगे विकलांगता प्रमाण-पत्र