DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्यसभा उपचुनाव: भाजपा व जदयू के वोट दो बजे तक पड़ चुके थे

हल्का-फुल्का माहौल, थोड़ा हंसी-मजाक और छाछ की खुशबू। कुछ इसी अंदाज में हुआ राज्यसभा उपचुनाव के लिए मतदान। वोट देने के लिए पहुंचने वाले भाजपा-ादयू विधायकों से छाछ पीने के लिए जरूर पूछा जाता था। जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र यादव से जब जदयू के मुख्य सचेतक श्रवण कुमार ने छाछ के लिए पूछा तो उन्होंने हंस कर कहा-छाछ पिलाइएगा तो हम वोट नहीं देंगे। श्री कुमार ने तुरंत जवाब दिया- वोट नहीं दीजिएगा तो सस्पेंड हो जाइएगा।ड्ढr ड्ढr राजग उम्मीदवार की जीत पक्की रहने पर भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मतदान को लेकर खासे गंभीर थे। गुरुवार को सचिवालय में लगभग तीन घंटे तक जमे रहे श्री कुमार फोन पर जानकारी लेते रहे कि अभी और कितने विधायक मतदान के लिए बचे हैं। भाजपा विधायक रामेश्वर चौरसिया विधानसभा में थोड़े विलम्ब से पहुंचे। अन्य विधायकों नेड्ढr हर्षध्वनि के साथ उनका स्वागत किया। पहला वोट विधि मंत्री रामनाथ ठाकुर ने डाला। उनके बाद पूनम देवी यादव, अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री जीतनराम मांझी और नगर विकास मंत्री भोला प्रसाद सिंह ने अपने मत डाले। अपराह्न् दो बजे तक भाजपा और जदयू के सभी वोट पड़ चुके थे। मतदान केन्द्र के बाहर केवल भाजपा और जदयू के लोग बैठे थे। निर्दलीय प्रत्याशी शिवशंकर निषाद का कोई आदमी वहां मौजूद नहीं था। जदयू के विधायकों का वोट दिलाने की जिम्मेवारी मुख्य सचेतक श्रवण कुमार ने उठा रखी थी जबकि भाजपा की ओर से संजय झा मौजूद थे। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी अपने कक्ष में थे और संसदीय कार्य मंत्री रामाश्रय प्रसाद सिंह तथा खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री नरन्द्र सिंह मुख्यमंत्री के कक्ष में।ड्ढr ड्ढr राजग प्रत्याशी राजीव प्रताप रूडी सुबह में आकर निकल गए जबकि श्री निषाद मतदान केन्द्र के अंदर थे। भाजपा और जदयू विधायक सुबह नौ बजे वोट देने के लिए जुट गए थे। राजद के मो. नेहालुद्दीन, राजेश सिंह, मानिकचंद राय, इंद्रदेव प्रसाद और रामानुज प्रसाद 11 बजे वोट देने पहुंचे। माकपा के रामदेव वर्मा भी दोपहर 1 बजे अपना मत डालने पहुंचे।ड्ढr ड्ढr राजग के चार विधायकों के मत नहीं पड़ेड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। राज्य सभा के उपचुनाव में राजग के कुल चार विधायकों के मत नहीं पड़ सके। इनमें जनता दल यू के तीन और भाजपा के एक विधायक शामिल थे। जनता दल यू के विधायक मनोरांन सिंह उर्फ धूमल सिंह और रणविजय सिंह जेल में होने के कारण अपना वोट डालने विधानसभा नहीं पहुंच सके जबकि जगमातो देवी अस्पताल में भर्ती होने के कारण मतदान नहीं कर सकी। वे दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती हैं। इधर कटिहार के भाजपा विधायक तारकिशोर प्रसाद को चुनाव आयोग ने वोट देने की अनुमति नहीं दी। उच्च न्यायालय ने उनके चुनाव नतीजे को रद्द कर दिया है। जनता दल यू के चर्चित विधायक फाल्गुनी यादव पर सबकी नजर थी। वे वाकर के सहार वोट डालने पहुंचे। उन्हें सहारा देकर मतदान केन्द्र तक लाया गया था। उनके पांव में पलस्तर अभी तक चढ़ा हुआ है। इधर निर्दलीय विधायकों में किशोर कुमार मुन्ना, नरन्द्र कुमार सिंह उर्फ बोगो सिंह, हरिभूषण ठाकुर बचौल, कौशल यादव, पूर्णिमा यादव, विजेन्द्र चौधरी और लालबाबू राय ने भी अपने वोट डाले। राजद के मात्र पांच विधायकों ने अपने वोट डाले। बाद में विधायक राजेश सिंह ने कहा कि उनकी पार्टी ने निर्दलीय उम्मीदवार शिवशंकर निषाद का समर्थन नहीं किया था लेकिन उन्हें वोट देने से रोका भी नहीं गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राज्यसभा उपचुनाव: भाजपा व जदयू के वोट दो बजे तक पड़ चुके थे