DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूबे में दो बड़े पुलों का निर्माण शीघ्र

राज्य में दो बड़े पुलों का निर्माण शीघ्र शुरू होगा। सरकार ने दो अन्य बड़े पुलों के बनने का रास्ता भी साफ कर दिया है। एक और पुल का डीपीआर इसी महीने पूरा होने की संभावना है। गोपालगंज-बेतिया एवं अरवल-(सहार)भोजपुर जिला को जोड़ने वाले पुलों के निर्माण की तकनीकी प्रक्रिया अंतिम चरण में है। इनके बनने से दोनों जिला मुख्यालयों की दूरी 100 किमी. से भी से कम हो जाएगी। अभी अरवल के लोगों को भोजपुर जिला जाने के लिए पटना जिले के बिहटा होते हुए कोईलवर पुल पार करके भोजपुर जिला में प्रवेश करना पड़ता है।ड्ढr ड्ढr वहीं गोपालगंज से बेतिया जाने के लिए डुमरिया पुल पार करके पूर्वी चम्पारण जिले की परिक्रमा लगाते हुए पश्चिम चम्पारण (बेतिया) में प्रवेश करते हैं। पथ निर्माण विभाग केअधिकारियों के मुताबिक गोपालगंज-बेतिया के बीच पुल बन जाने से नेपाल जाने का यह सबसे छोटा रास्ता हो जाएगा। साथ ही गोपालगंज से बेतिया की दूरी करीब 150 किमी. कम हो जाएगी। करीब 300 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले इस पुल की 70 फीसदी राशि नाबार्ड दे रहा है। डीपीआर तैयार है और शीघ्र ही इसका टेंडर किया जाएगा। अरवल-सहार पुल का टेंडर 30 जून को खुलेगा। करीब 100 करोड़ रुपए की लागत वाले इस पुल का निर्माण तुरंत शुरू किया जाएगा।ड्ढr ड्ढr सहरसा-दरभंगा के बीच बलुआहा घाट पर बनने वाले पुल का डीपीआर इसी महीने पूरा हो जाएगा। इसके बाद प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति मिलते ही पुल का टेंडर होगा। इस पुल की निर्माण लागत 250 करोड़ रुपए आंकी गई है। सरकार ने नवगछिया स्थित विजयपुर में विजयघाट पुल के निर्माण का निर्णय किया है। इसपर 1400 करोड़ रुपए खर्च किये जाने है जिसके डीपीआर निर्माण के लिए एजेंसी का चयन किया जा रहा है। बगहा में रतवलघाट से नेपाल को जोड़ने वाले पुल का डीपीआर निर्माणाधीन है जिसकी लागत100 करोड़ रुपए तय की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सूबे में दो बड़े पुलों का निर्माण शीघ्र