DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘मोदी फॉर पीएम’ अभियान 12 से

‘मोदी फॉर पीएम’ अभियान 12 से

कांग्रेस से ज्यादा आम आदमी पार्टी (आप) की चुनौती व चिंताओं से घिरी भाजपा का लोकसभा चुनाव के लिए ‘मोदी फॉर पीएम’ अभियान 12 जनवरी से शुरू हो जाएगा। 16 से 19 जनवरी तक पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से लेकर चुनावी रणनीति से सक्रिय रूप से जुड़ने वाले लगभग दस हजार कार्यकर्ताओं की बैठकों का दौर शुरू होगा। राष्ट्रीय कार्यकारिणी व राष्ट्रीय परिषद की इस बैठक में औपचारिक प्रस्ताव तो दो ही पारित होंगे, लेकिन केंद्र में 272 प्लस के मिशन के लिए कांग्रेस व ‘आप’ से निपटने की रणनीति रहेगी।

भाजपा के केंद्रीय संसदीय बोर्ड की शुक्रवार को हुई बैठक में अगले सप्ताह होने वाली राष्ट्रीय कार्यकारिणी व राष्ट्रीय परिषद की बैठक के एजेंडे पर मुहर लगा दी गई। बैठक में व्यस्तताओं के चलते प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी, सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी व वेंकैया नायडू मौजूद नहीं थे। तय कार्यक्रम के अनुसार 16 जनवरी को राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक होगी।

‘देश को बदलाव का इंतजार’
केंद्र सरकार में परिवर्तन का संकेत देते हुए भाजपा के पीएम पद उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि देश अगले 182 दिन के भीतर रचनात्मक बदलाव की प्रतीक्षा कर रहा है। मोदी गांधीनगर में आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय शिक्षा सम्मेलन का उद्घाटन कर रहे थे। इसका आयोजन गुजरात के शिक्षा विभाग ने किया था।

चुनौती 272 प्लस की
बैठक के बाद संसदीय बोर्ड के सचिव अनंत कुमार ने ‘आप’ को लेकर बढ़ी पार्टी की चिंताओं से बचते हुए कहा कि हमारे सामने एक ही चुनौती है कि मोदी के नेतृत्व में 272 से ज्यादा सीटें हासिल करना। इसके लिए भाजपा शासित राज्यों से अधिकांश सीटें हासिल करनी होगी। कांग्रेस हमारे सामने नहीं है। उसके मैदान से बाहर होने से खाली हुई जगह को भाजपा को भरना होगा। हालांकि बिहार में कांग्रेस, राजद-लोजपा गठजोड़ की कोशिश में है।

कांग्रेस और ‘आप’ पर प्रहार
कार्यकारिणी व परिषद की बैठक में राजनीतिक प्रस्ताव में देश की संप्रग सरकार के घोटालों के साथ ‘आप’ के साथ कांग्रेस के गठजोड़ पर भी सीधा प्रहार होगा। बाहरी व आंतरिक सुरक्षा से जुड़े पहलू और आम आदमी से जुड़े मुद्दे भी इसमें शामिल होंगे। महंगाई व देश की आर्थिक स्थिति पर दूसरा प्रसताव आएगा। बैठक में संसदीय व बूथ स्तर के सम्मेलन के साथ आगामी रैलियों का कार्यक्रम भी रखे जाएंगे।

नरेंद्र मोदी के समर्थन में उतरीं किरण बेदी
पूर्व पुलिस अधिकारी किरण बेदी ने शुक्रवार को कहा कि उनका समर्थन अनुभवी सरकार को है। इस दिशा में उनके पास एक ही विकल्प है और वह है भाजपा।

बेदी ने एक टीवी चैनल को बताया, ‘मेरा समर्थन अनुभवी शासन को है। मेरा समर्थन संयुक्त भारत को है जो शहर और गांव को नहीं बांटता हो। मेरा समर्थन इस देश के विकास, एकता और अखंडता को है। पूर्व पुलिस अधिकारी ने गुरुवार को ट्विटर पर लिखा था, मेरे लिए सबसे पहले भारत है, स्थिर, अच्छे शासन, प्रशासन, जवाबदेह और समावेशी विकास वाला भारत। एक मतदाता के तौर पर मेरा वोट नमो (नरेंद्र मोदी) के लिए है। उन्होंने सवाल किया कि यदि लोकसभा चुनाव के परिणाम में त्रिशंकु संसद आती है तो देशवासी कहां जाएंगे? बेदी ने कहा, हमारे पास एकमात्र विकल्प भाजपा का है जो कि एक राष्ट्रीय दल है। दूसरी राष्ट्रीय पार्टी कांग्रेस है, जो सभी घोटालों की कारक है। 

न्योता दे भाजपा
भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वीके सिंह और किरण बेदी को पार्टी में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया जाना चाहिए। स्वामी ने ट्विटर पर अपनी भावना प्रकट की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘मोदी फॉर पीएम’ अभियान 12 से