DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उलझन बना 3.5 लाख वोटरों का डबल रोल

मुरादाबाद वरिष्ठ संवाददाता। वोटर लिस्ट में एक नाम और वल्दियत समान, साथ ही फोटो भी एक जैसा। ऐसे में यह पहचानना बड़ा मुश्किल है कि कौन सा शख्स असली है और कौन नकली ? सबकुछ फिल्म की तरह, जैसे एक किरदार के दो रोल हों।

सूची में दो-दो जगह नाम वाले मतदाता अफसरों के गले की फांस बने हैं। कई बार पुनरीक्षण अभियान चला लेकिन वोटर लिस्ट सही नहीं की जा सकी। जिले की कुल छह विधानसभा क्षेत्रों में तकरीबन तीन लाख साठ हजार मतदाताओं ने नाम दो जगह दर्ज हैं।

औसतन एक विधानसभा में साठ हजार लोग। ऐसे इन नामों को हटाना प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है। यूपी में मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने दो जगह सूची में बने मतदाताओं के नामों को हटाने के लिए खास सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करवाया।

इससे इन नामों की लिस्टिंग हो गई। वोटर लिस्ट से डुप्लीकेट मतदाताओं के नाम हटाने का काम मैनुअल तरीके से ही किया जाएगा। एक स्थान पर मतदाता का नाम रहना अनिवार्य है वर्ना दफ्तर में बैठक कर सारे नाम उड़ा दिए जाते। मतदाताओं का नाम उसी स्थान पर रखना है, जहां वह रहते हैं और वोट डालते हैं। लोग जानबूझ कर दो स्थानों पर अपने नाम दर्ज करवाते हैं जिससे वह दो स्थानों पर वोटर आईडी कार्ड का लाभ ले सकें।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी उमेश सिन्हा का फोकस यही है कि एक मतदाता का नाम एक ही स्थान पर रहना चाहिए। हर जिले में विशेष अभियान चलवा कर यह नाम काटे जाएंगे। सख्ती तो यहां तक होगी कि इस अभियान के बाद भी अगर कोई डबल रोल वाला मिलता है तो धूम थ्री की तरह उसका हश्र अच्छा नहीं होगा। उसके खिलाफ मुकदमा होगा। सभी विधान सभा क्षेत्रों में पहंचेंगे बीएलओजिले में छह विधानसभा क्षेत्र हैं। जिसमें मुरादाबाद देहात, मुरादाबाद नगर, कुंदरकी, ठाकुरद्वारा, कांठ और बिलारी हैं।

इन सभी विधान सभा क्षेत्रों में बीएलओ घर-घर पहुंच कर मतदाताओं से पूछेंगे कि वह कौन से स्थान वाली मतदाता सूची में अपना नाम रखना चाहते हैं, उसी में नाम रहेगा बाकी जगह कट जाएगा। जिले में साढ़े तीन लाख से ज्यादा मतदाता ऐसे हैं जिनके दो जगह नाम दर्ज हैं।

इन सभी मतदातओं के नाम एक ही सूची में रहेंगे। स्वेच्छा से नाम कटवाने में फायदा है। बीएलओ को इसके लिए ट्रेनिंग दे दी गई है। जिससे समय से मतदाता सूचियों को शुद्ध कर लिया जाए।

चुनाव आयोग ने इस मामले में सख्ती की है। आदेश पर अमल शुरू हो गया है। महेंद्र वर्मा, एडीएम प्रशासन।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उलझन बना 3.5 लाख वोटरों का डबल रोल