DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लाठीचार्ज के विरोध में बंद कराये कॉलेज

कार्यालय संवाददाता पटना। विधानसभा का घेराव करने जा रहे छात्रों पर हुए लाठीचार्ज, छात्रों पर कराये गए फर्जी मुकदमे के विरोध में शुक्रवार को एआईएसएफ से जुड़े छात्रों ने पटना व मगध विश्वविद्यालय मुख्यालय के अलावा इनसे संबद्ध कॉलेजों को बंद कराया। कई जगह बंद कराने का विरोध भी हुआ। इसके अलावा कई जगहों पर विरोध में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला फूंका।

प्रदर्शनकारी छात्रों ने सरकार से जेल में बंद 36 छात्र नेताओं की बिना शर्त रिहाई की मांग की। इसके अलावा आक्रोशित छात्र लाठीचार्ज के दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग कर रहे थे। एआईएसएफ बिहार राज्य परिषद के राज्यव्यापी स्कूल-कॉलेज बंद का पटना में असर दिखा।

पटना विश्वविद्यालय मुख्यालय, पटना कॉलेज, वाणिज्या कॉलेज, सायंस कॉलेज, मगध महिला कॉलेज, दरभंगा हाउस, लॉ कॉलेज, मगध विश्वविद्यालय के एएन कॉलेज, बीडी कॉलेज, कॉलेज ऑफ कॉमर्स, एएनएस कॉलेज बाढ़, जेडी वीमेंस कॉलेज, पटना सिटी स्थित आरपीएम कॉलेज, एसएलआर कॉलेज, विक्रम, बीएस कॉलेज दानापुर, मसौढ़ी में स्कूल-कॉलेजों को बंद करा उग्र प्रदर्शन किया।

इस कारण कई जगह कक्षाएं नहीं हो सकीं। छात्रों को घर लौटना पड़ा। इसके अलावा विश्वविद्यालय में कामकाज प्रभावित रहा। बंद के दौरान सभी कॉलेज के छात्रों ने एआईएसएफ को समर्थन देते हुए अपने क्लास का बहिष्कार किया। वहीं 13 जनवरी को रेल-रोड चक्का जाम करने का फैसला लिया गया।

कॉलेज बंद कराने में राज्य उपाध्यक्ष निखिल कुमार झा, राज्य कार्यकारिणी सदस्य आकाश गौरव, प्रिंस कुमार, विकाश झा, महानगर अध्यक्ष उज्जवल कुमार, जिलाध्यक्ष अभिषेक आनंद, पटना विष्वविद्यालय अध्यक्ष मीनू मिश्रा, सचवि मो़ हदीश, उपाध्यक्ष प्रभात रंजन, पुष्पेन्द्र शुक्ला, दीपा चौधरी, निशा कुमारी, तमन्ना झा, दीवाकर, ज्योति पाण्डेय, समरेन्द्र, जयनारायण, अभिषेक दुबे, सागर सुमन आदि थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लाठीचार्ज के विरोध में बंद कराये कॉलेज