DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड के 400 एनजीओ फचाी

झारखंड में 400 से ज्यादा एनजीओ कागज पर चल रही हैं। सरकारी एजेंसी ने इसका खुलासा किया है। रामगढ़ के डीसी ने भी इस जांच रिपोर्ट पर मुहर लगा दी है। पांच अरब से अधिक की राशि कहां खर्च की गयी, इसका भी अता-पता नहीं है। चौंकाने वाली बात यह है कि सभी एनजीओ निबंधित हैं।ड्ढr इन संस्थाओं की भूमिका पर खुफिया एजेंसी ने पांच माह जांच की। जांच के बाद खुफिया के आइजी ने गृह सचिव सुधीर त्रिपाठी को जो रिपोर्ट सुपुर्द की है उसके मुताबिक कम से कम 400 एनजीओ का कोई दफ्तर नहीं है, जो पता दिखाया गया है, वहां या तो सरकारी दफ्तर है या फिर स्कूल। सूत्रों के अनुसार राज्य का ऐसा कोई जिला नहीं, जहां एनजीओ कागज पर नहीं चल रहे। रिपोर्ट में कुछ बड़े एनजीओ के नाम भी हैं, जिनके काम की सराहना भी की गयी है। केंद्र और राज्य की सरकारें इन एनजीओ के माध्यम से लोक कल्याण के लिए सहायता राशि उपलब्ध कराती है।ड्ढr अब इस रिपोर्ट के बाद सरकार के स्तर पर निर्णय होगा कि ऐसे फर्जी एनजीओ को मदद पहुंचायी जाये या नहीं। खुफिया की इस रिपोर्ट के बाद राज्य के सार उपायुक्तों से अलग से रिपोर्ट मांगी गयी है। रामगढ़ के डीसी ने जो रिपोर्ट सुपुर्द की है उसके मुताबिक वहां ग्राम विकास संस्था, जन सेवा विकास संस्था, ग्रामशिक्षा विकास समिति, झारखंड हरिजन-आदिवासी विकास समिति, अनुपम सामाजिक विकास संस्था, महिला विकास समिति पतरातू, युवा विकास संस्था और मुस्कान फाउंडेशन नाम की कोई संस्था नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: झारखंड के 400 एनजीओ फचाी