DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिकित्सा अधिकारी की बर्खास्तगी के लिए धरना

सरैया हिन्दुस्तान संवाददाता। पीएचसी, सरैया के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को बर्खास्त करने की मांग को लेकर शुक्रवार को स्वास्थ्य बचाओ जीवन बचाओ जनसंघर्ष समिति के बैनर तले दर्जनों लोग सड़क पर उतर आये। आक्रोशित लोगों ने ब्लॉक मोड़ के समीप एनएच 102 को जाम कर दिया और वहीं धरने पर बैठ गये। चिकित्सा अधिकारी, सीएस व जनप्रतिनिधियों के खिलाफ नारेबाजी भी की।

धरना के कारण सरैया-गोरौल मार्ग करीब चार घंटे जाम रहा। इस दौरान हुई सभा में संघर्ष समिति के अध्यक्ष शशिकांत राय ने कहा कि भ्रष्ट अधिकारियों व जनप्रतिनिधयों की मिलीभगत से छह माह पूर्व हटाये गये चिकित्सा अधिकारी को पुन: सरैया पीएचसी में भेजा जाना दुखद है।

प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. शवशिंकर सिंह आकंठ भ्रष्टाचार मेंडूबे रहते हैं। उनके कार्यकाल में एक ही रात एक डॉक्टर व नर्स के सहारे 30-30 महिलाओं का प्रसव कराये जाने का खेल हुआ। विधवा और 60 वर्ष की महिलाओं के नाम पर भी जननी बाल सुरक्षा योजना की राशि की लूट की गई।

उन्होंने प्रभारी को बर्खास्त करने, रेफरल भवन से पीएचसी की व्यवस्था पुन: मुख्य मार्ग स्थित पीएचसी भवन में लाने, रेफरल भवन में रेफरल अस्पताल शुरू करने, प्रखंड के सभी नौ अतिरिक्त स्वास्थ्य केन्द्र व 35 उप स्वास्थ्य केन्द्रों को चालू करने की मांग की।

अशोक कुमार सिंह, जिला पार्षद इन्दू राय, रामेश्वर साह के अलावा नन्हक साह, कौशल भक्त, उमेश राय, बिनोद ठाकुर, भरतलाल चौधरी, महेश ठाकुर चकोर, रंजीत कुमार ने भी संबोधित किया। अध्यक्षता शशिकांत राय व संचालन सुनील कुमार सिंह ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चिकित्सा अधिकारी की बर्खास्तगी के लिए धरना