DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लगातार लुढ़कते पारे ने बढ़ाई मुसीबत

फिरोजाबाद हिन्दुस्तान संवाद। कड़ाके की सर्दी ने लोंगों का जीना मुहाल कर दिया है। दांत किटकिटाते हुए दिन भर लोग सर्दी से निजात के उपाय करते रहे। लोगों ने घरों से बाहर निकलने के बजाय अंदर रहना ही पसंद किया। सर्दी के बचने के लिए कोई अगियारे अलाव के पास से हटने का नाम नहीं ले रहा था तो कोई चाय की चुस्कियां लेकर सर्दी से राहत पाने की कोशशि कर रहा था।

गर्म कपड़ो के साथ लोग सिर और कान भी ढके नजर आए। सुबह कुछ देर को निकली धूप से हालांकि लोगों के चेरहरों पर रौनक दिखी लेकिन कुछ देर बाद ही बादल छा जाने से सर्दी फिर से बढ़ गयी। इसके बाद शाम तक सूयर्दशन नहीं हो सके। दिन में भी कोहरा रहा। सर्द हवाएं चलीं। सर्दी की वजह से लोगों के हाथ पांव नहीं चल रहे थे। सर्द हवाओं के बीच लोग घरों से बाहर निकलने में भी कतराए।

सर्दी से कुछ राहत पाने को घरों में अगियारे जलाए गए। परिवार वाले अगियारे के इर्द गिर्द बैठकर सर्दी से राहत पाते नजर आए। सड़कों पर दिन में अलाव जल रहे थे। अलाव के इर्द गिर्द लोगों के जमघट लगे थे। शाम ढलते ढलते मौसम का पारा और भी गिरने लगा था। इधर बढ़ी सर्दी को लेकर बाजार में वूलन कपड़ो की खरीददारी को लेकर लोगों में उत्साह रहा। रूम हीटर आदि की खरीददारी को लेकर भी लोगों में उत्साह नजर आया।

शाम के समय शहर में कई स्थानों पर अलाव जल रहे थे। अलाव के इर्द गिर्द लोगों के जमघट लगे थे। सर्दी की वजह से लोग जल्दी कामकाज निपटाकर घरों को जाने का प्रयास कर रहे थे। सर्दी के प्रकोप के चलते सार्वजनिक स्थलों पर भी सामान्य दिनों की अपेक्षा कम चहलपहल नजर आई। बाजारों में भी दुकानदार खाली से बैठे रहे। ग्राहकों के कम आने से रात को भी व्यवसायिक प्रतिष्ठान जल्दी बंद हो गये। हाईवे पर कोहरे के कारण वाहनों को शाम से ही लाइट जलाकर चलना पड़ा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लगातार लुढ़कते पारे ने बढ़ाई मुसीबत