DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चंद्रयान-1 के बाद 2017 तक चंद्रयान-2 भेजेगा भारत

चंद्रयान-1 के बाद 2017 तक चंद्रयान-2 भेजेगा भारत

चंद्रयान-1 अभियान की सफलता से उत्साहित भारत ने दो-तीन साल में चंद्रयान-2 अभियान शुरू करने का फैसला किया है जो चंद्रमा की परिक्रमा करने के बजाय उसकी सतह पर उतरेगा।

चंद्रयान-2 अभियान में भूस्थैतिक कक्ष :जिओसिंक्रोनस : प्रक्षेपण यान (जीएसएलवी) का उपयोग करने वाला स्वदेश में विकसित एक रोवर और एक लैंडर होगा।

अंतरिक्ष सचिव क़े राधाकृष्णन ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि चंद्रयान-2 एक अभियान है जहां हमें प्रयोग संचालित करने के लिए अनिवार्यत: (चांद की) सतह पर जाने की जरूरत है।

राधाकृष्णन ने कहा, हम 2016 या 2017 तक जीएसएलवी का उपयोग कर एक देशज रोवर और लैंडर के साथ चंद्रयान-2 प्रक्षेपित करेंगे।

चंद्रयान-1 चांद पर भारत का पहला अभियान था। वह 22 अक्टूबर 2008 में श्रीहरिकोटा से छोड़ा गया था। इसमें अंतरिक्षयान चांद की रासायनिक, खणिजवैज्ञानिक और प्रकाश-भूगोलिक मैपिंग के लिए उसकी सतह से 100 किलोमीटर ऊपर कक्षा में चांद की परिक्रमा कर रहा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चंद्रयान-1 के बाद 2017 तक चंद्रयान-2 भेजेगा भारत