DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिंह और बेदी को भाजपा में शामिल होने का न्योता!

सिंह और बेदी को भाजपा में शामिल होने का न्योता!

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने शुक्रवार को कहा कि पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वीके सिंह और अन्ना हजारे की सहयोगी किरण बेदी को पार्टी में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया जाना चाहिए।

पूर्व आईपीएस अधिकारी किरण बेदी ने एक दिन पहले ही प्रधानमंत्री पद के लिए भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी का समर्थन किया था। स्वामी ने टि्वटर पर लिखा कि हमें किरण बेदी और जनरल सिंह को भाजपा में शामिल होने के लिए आमंत्रित करना चाहिए।

मोदी का कल समर्थन करने वाली किरण ने आज फिर से उनकी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि मैं किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश में हूं जो इस देश का नेतृत्व कर सके या कोई एक पार्टी जो स्थिरता दे। मोदी को मेरा समर्थन मजबूत और यह स्थिर सरकार के लिए है।

उन्होंने इस विचार को भी खारिज करने का प्रयास किया कि इंडिया अगेंस्ट करप्शन का आंदोलन कांग्रेस और भाजपा दोनों के ही खिलाफ था। उन्होंने कहा कि नहीं, वह भाजपा के खिलाफ नहीं था। यह गलत धारणा है। वह केवल कांग्रेस के घोटालों के खिलाफ था। भाजपा सरकार में नहीं थी।

किरण बेदी ने कहा कि वह आंदोलन कोलगेट, 2जी, राष्ट्रमंडल खेल जैसे घोटालों के खिलाफ था। वह आंदोलन वास्तव में राष्ट्रमंडल के साथ शुरू हुआ। वह सत्ता में काबिज पार्टी के खिलाफ था जो आपको लोकपाल विधेयक नहीं दे रही थी।

उन्होंने कल टि्वटर पर लिखा था कि मेरे लिए सबसे पहले भारत है, स्थिर, अच्छे शासन, प्रशासन, जवाबदेह और समावेशी विकास वाला भारत। एक मतदाता के तौर पर मेरा वोट नमो (नरेंद्र मोदी) के लिए है। उन्होंने सवाल किया कि यदि लोकसभा चुनाव के परिणाम में त्रिशंकु संसद आती है तो देशवासी कहां जाएंगे।

उन्होंने कहा कि वास्तव में लोगों में पहले से ही इस बात को लेकर बेचैनी है कि एक त्रिशंकु संसद आ सकती है। इसलिए आपको यदि एक त्रिशंकु संसद मिलती है तो आप गिरावट की ओर जा रहे हैं..हमारे पास एकमात्र विकल्प भाजपा का है जो कि एक राष्ट्रीय दल है। दूसरी राष्ट्रीय पार्टी कांग्रेस है, जो सभी घोटालों की कारक है।

किरण ने कहा कि मैं फिर से कांग्रेस को वोट कैसे दूं या किसी अन्य पार्टी को भी वोट कैसे दूं। कांग्रेस के पास पीछे के रास्ते से सत्ता में आने का एक बहुत ही रोचक तरीका है..इसलिए मैं ऐसे किसी अन्य दल को भी वोट नहीं दूंगी जिन्हें मैं पसंद करती हूं, क्योंकि उनका इस्तेमाल कांग्रेस पीछे के रास्ते से वापसी के लिए कर सकती है।

किरण बेदी का इशारा अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी की ओर था, जिसने कांग्रेस के समर्थन से दिल्ली में सरकार बनायी है और जिसके बारे में व्यापक सोच यह है कि इस पार्टी के लोकसभा चुनाव में भाजपा के वोट बैंक में सेंध लगाने की संभावना है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सिंह और बेदी को भाजपा में शामिल होने का न्योता!