DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एटमी करार : करात ने साधा पीएम पर निशाना

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सरकार पर अमेरिका का रणनीतिक साझीदार बनने के मोह से ग्रस्त होने का आरोप लगाते हुए माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव प्रकाश करात ने शुक्रवार को चेतावनी दी है कि जनता से जुड़े मुद्दों की उपेक्षा से चुनावों में दक्षिणपंथी ताकतों को फायदा हो सकता है। पार्टी के मुखपत्र ‘पीपुल्स डेमोक्रेसी’ के नवीनतम प्रकाशित अंक में लिखे एक लेख में करात ने कहा है कि जनता सरकार को ऐसे अमेरिकी राष्ट्रपति से किए गए वादे को पूरा करने के लिए प्रयास करते देख रही है जिसकी पूरी दुनिया में निंदा हो रही है तथा खुद उसके देश में उसकी विश्वसनीयता बहुत कम है। करात ने आगे लिखा है कि देश की समस्याओं को देखंे तो सरकार को सबसे पहले मंहगाई कम करने और जरूरी चीजों के दाम कम करने के लिए युद्धस्तर पर प्रयास करने चाहिए जिससे जनता को राहत मिल सके। लेकिन पिछले 15 दिनों ने उजागर कर दिया है कि सरकार की प्राथमिकता क्या है?ड्ढr उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि कांग्रेस नेतृत्व को यह समझ लेना चाहिए कि अमेरिका समर्थक नीतियां अपनाने से केवल दक्षिणपंथी सांप्रदायिक ताकतों को ही फायदा होगा। माकपा के नेतृत्व वाले वाम मोर्चे ने सरकार को अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) के साथ भारत के लिए सुरक्षा उपायों संबंधी समझौते पर आगे बढ़ने की अनुमति नहीं दी है। आईएईए के साथ समझौता अमेरिका के साथ परमाणु करार की दिशा मंे सबसे महत्वपूर्ण कदम है। वामदलों ने धमकी दी है कि यदि सरकार ने परमाणु करार की दिशा में कदम आगे बढ़ाया तो वह सरकार से अपना समर्थन वापस ले लेंगे। इससे सरकार के भविष्य पर खतरे के बादल मंडराने लगे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एटमी करार : करात ने साधा पीएम पर निशाना