DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ठंड के थर्ड डिग्री टॉर्चर से सहमा रामगढ़

रामगढ़। संवाददाता। रामगढ़ इन दिनों ठंडी हवाओं की चपेट में है। ठंड के थर्ड डिग्री टॉर्चर का यह हाल है कि लोगों का हाल बेहाल हो गया है। सुबह से चलने वाली ठंडी हवा का सितम देर रात तक चल रहा है। शीतलहरी की चपेट में आने के कारण लोग बीमार पड़ रहे हैं। जिले के कई हिस्सों से ठंड से मरने की खबरें भी लगातार आ रही है।

इधर जिला प्रशासन प्रखंडों को पैसा दे देने के बाद इस मामले में पूरी तरह उदासीन बना हुआ है। सभी प्रखंडों के अंचलाधिकारी को पैसे जारी कर दिए गए हैं लेकिन सार्वजनिक जगहों पर अलाव जलाने के नाम पर खानापूर्ति की जा रही है। रामगढ़ शहर में तो छावनी परिषद् और जिला प्रशासन पर निर्भर रहनेवाले गरीबों को और भी ज्यादा निराशा हासिल हो रही है। शहर में सार्वजनिक जगहों पर अलाव मुकम्मल तौर पर नहीं जल रहे हैं। न्यूनतम तापमान पहुंचा 7 डिग्री पर जिले में न्यूनतम तापमान में लगातार गिरावट जारी है।

अधिकत्तम और न्यूनतम के बीच अंतर कम होने से ठंड ज्यादा शिद्दत से महसूस हो रही है। पिछले पांच दिनों में न्यूनतम तापमान में और गिरावट आई है। चार जनवरी से पारा लगातार गिर रहा है। यदि मौसम विभाग के आंकड़ाे को देखें तो गुरुवार इस महीने की सबसे सर्द रात रही जब न्यूनतम तापमान सात डिग्री पर पहुंच गया। आठ जनवरी को पारा आठ डिग्री पर था। 22 जनवरी तक न्यूनतम तापमान में कमी जारी रहेगी। अलाव नहीं जले तो करें शिकायत: डीसी डीसी डॉ सुनील कुमार सिंह ने बताया कि जिला प्रशासन ठंड के प्रति गंभीर है।

सभी प्रखंडो में सीओ को अलाव जलाने के लिए राशि दे दी गई है। रामगढ़ प्रखंड को सबसे ज्यादा सवा लाख और बाकी पांच प्रखंडो में एक-एक लाख केवल अलाव के लिए दिए गए है। हालांकि उन्होंने भी सार्वजनिक जगहों पर अलाव जलते नहीं देखा है। आम नागरिक एसडीओ और डीसी को अलाव नहीं जलने पर इसकी तत्काल सूचना दें। बॉक्स के लिए- हृदय रोग और सांस के रोगी बरतें एहतियातठंड में बच्चों और वृद्धों पर खास नजर रखने की दरकार होती है।

डाक्टरों के मुताबिक हृदय और सांस के रोगियों को खास ख्याल रखना चाहिए। जेनरल फीजिसियन डॉ शरद जैन ने बताया कि सुबह मॉर्निग वाक करनेवाले लोग अभी घर से नहीं निकले। बहुत जरूरी हो तो वार्म अप के लिए सुबह दस बजे और शाम चार बजे तक का समय चुन सकते हैं। पीने के लिए गर्म पानी का प्रयोग करें, खाना में सब्जियों के सूप का प्रयोग करें वो बॉडी को गर्म भी करेगा। धूप सेकें बच्चोंशशिु रोग विशेषज्ञ डॉ राजेश ने बताया कि बच्चों का नाक, कान और गला पूरी तरह ढक कर रखें।

सुबह धूप निकलने के बाद ही शिशु को घर से बाहर निकालें और धूप सेकें। स्नान में गुनगुने पानी का ही इस्तेमाल करें। सुबह-शाम में बच्चों के कमरे को गर्म रखें। बच्चों के खानपान भी नजर रखें। गर्म तासिर वाले खाद्य पदार्थ बच्चों को दें, पीने के लिए गर्म पानी का प्रयोग करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ठंड के थर्ड डिग्री टॉर्चर से सहमा रामगढ़