DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सांसद पत्नी बोलीं, खारिज किया जाए मुकदमा

भागलपुर, वरीय संवाददाता। काजीचक स्थित जमीन से संबंधित टाइटल सूट में गुरुवार को परमानंद शर्मा ने सबजज एक के कोर्ट में आवेदन देकर अपने और बहनों को पक्षकार बनाने का अनुरोध किया। इन्द्राणी देवी ने आवेदन देकर मुकदमा को खत्म करने की प्रार्थना की है। कोर्ट में न्यायिक पदाधिकारी के नहीं रहने के चलते आवेदनों पर सुनवाई नहीं हो सकी।

इन्द्राणी चौधरी की तरफ से दिये आवेदन में कहा गया है कि वादी दया देवी की मौत हो चुकी है। उसके बाद कोई उनकी जगह पर पक्षकार नहीं बना है। नियमों के अनुसार 90 दिन के अंदर पक्षकार बनना चाहिए। आवेदन में कहा गया है कि पक्षकार नहीं बनने के चलते मुकदमा अब चलने योग्य नहीं रह गया है। परमानंद की तरफ से अधविक्ता मदनमोहन मिश्रा ने आवेदन देकर कहा है कि स्व. साधो मिस्त्री की पत्नी दया देवी की मौत 25 फरवरी 2011 को हो गई है।

कोर्ट से आग्रह किया गया है कि दया देवी के नाम को हटाकर उनकी जगह परमानंद शर्मा, हीरा देवी और मीरा देवी का नाम वाद में जोड़ा जाए। आवेदन में कहा गया है कि दया देवी के कानूनन उत्तराधिकारी इन तीन लोगों के अलावा सुबोध शर्मा और दयानंद शर्मा भी हैं। उन दोनों के भागलपुर में नहीं रहने के चलते बाद में पक्षकार बनाने के लिए आवेदन दिया जाएगा। उन लोगों को टाइटिल सूट के बारे में जानकारी नहीं थी।

इस केस के बारे में उन लोगों ने 28 दिंसबर 2013 को जानकारी मिली, जब जगदीशपुर सीओ ने नोटिस तामिल कराया। मामले की सुनवाई के लिए अगली तिथि निर्धारित की गई है। कई महीनों से कोर्ट में सब जज एक का पद रिक्त है। इसके चलते सुनवाई नहीं हो रही है। दोनों तरफ से आवेदनों की सुनवाई बाद में होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सांसद पत्नी बोलीं, खारिज किया जाए मुकदमा