DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

27 हजार रुपए प्रतिकर देने का आदेश

पुरानी बस्ती। हिन्दुस्तान संवाद

सेवा में हुई कमी के कारण न्यू इण्डिया एश्योरेन्स कम्पनी लि. को 27 हजार 68 रुपए प्रतिकर देना होगा। उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष न्यायाधीश चन्द्रनाथ मिश्र, सदस्य वन्दना मिश्रा व खुर्शीद हबीब की पीठ ने बीमा कम्पनी को आदेश दिया कि प्रतिकर की धनराशि के साथ वह परविादी को खर्च मुकदमा के लिए भी पांच हजार रुपए अदा करे। सन्तकबीर नगर जिले दुधारा थाना क्षेत्र निवासी रामतीरथ ने बीमा कम्पनी न्यू इण्डिया एश्योरेन्स कम्पनी लि. कम्पनी के सर्वेयर विनोद कुमार व भारतीय स्टेट बैंक शाखा बाघनगर के खिलाफ परविाद दाखिल कर कहा कि वह कृषि उपज सम्बधी सामानों की बिक्री करता है और एसबीआई बाघनगर से सीसी लिमिट करवाया है।

बैंक ने न्यू इण्डिया एश्योरेन्स कम्पनी लि. से दुकान का बीमा कराया है जिसमें दस लाख रुपए का रिस्क कबर है। 11 नवम्बर 2006 को उसके दुकान में शार्ट शर्किट से आग लग गई और सब कुछ जल गया, लेकिन बीमा कम्पनी ने मात्र 1 लाख 88 हजार 400 रुपर का ही प्रतिकर दिया। कम्पनी के सर्वेयर ने भी मात्र 2 लाख 34 हजार 468 रुपए की क्षति का आकलन किया। इस प्रकार बीमा कम्पनी ने संविदा के अनुसार क्षतिपूर्ति नहीं दिया।

साक्ष्यों के अधार पर पीठ ने यह पाया की कम्पनी के सर्वेयर ने 2 लाख 15 हजार 468 की क्षति का आकलन किया है। पीठ ने सर्वेयर की ओर से आंकी गई धनराशि को सही मानते हुए बीमा कम्पनी को आदेश दिया कि वह परविादी को कटौती की गई 27 हजार 68 रुपए के साथ मुकदमा के लिए भी पांच हजार रुपए अदा करे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:27 हजार रुपए प्रतिकर देने का आदेश