अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जबलपुर में साम्प्रदायिक तनाव, कफ्यरू

मध्यप्रदेश के जबलपुर के सदर क्षेत्र में शुक्रवार की दोपहर जमीन विवाद को लेकर दो गुटों में हुए संघर्ष ने साम्प्रदायिक रूप ले लिया। दोनों आेर से पत्थर और गोलियां तक चली। पुलिस द्वारा लाठी चार्ज करने और आंसू गैस के गोले छोड़ने के बाद भी स्थिति नहीं संभली तो सदर के सीमित क्षेत्र में कफ्यरू लगा दिया गया। स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। जानकारी के अनुसार सदर में एक धार्मिक स्थल हैं जिसके करीब चिन्टू चौकसे की दुकान है। इस दुकान को लेकर धार्मिक स्थल संचालक और चिन्टू चौकसे के बीच अरसे से विवाद चला आ रहा है। शुक्रवार की दोपहर भी इन दोनों के बीच विवाद हुआ और बात मार पीट तक पहुंच गई। दोनों पक्षों के समुदाय से संबद्ध लोग जमा हुए और उन्होंने एक दूसरे पर पथराव कर दिया। दोनों पक्षों का आरोप हैं कि गोलियां भी चलाई गई। घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और उसने स्थिति को नियंत्रित करने के लिए लाठी चार्ज किया तथा आंसू गैस के गोले छोड़े। इतना कुछ करने के बाद भी पथराव थमा नहीं। इन स्थितियों को देखते हुए कलेक्टर हरिरंजन राव ने सदर के उस क्षेत्र में कफ्यरू लगा दिया। राव ने बताया कि सदर में स्थिति को देखते हुए कफ्यरू लगाया गया और स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिशें जारी है। पथराव में पुलिस जवानों सहित दोनों पक्षों के लगभग दो दर्जन लोग घायल हुए हैं। उन्होंने बताया कि यह विवाद सीधे तौर पर दो पक्षों के बीच था, मगर उसने साम्प्रदायिक हिंसा का रूप ले लिया। कोई अप्रिय घटना न घटे इसके मद्देनजर विवादित स्थल के आसपास के क्षेत्रों में कफ्यरू लगा दिया गया है। जबलपुर के पुलिस अधीक्षक मकरंद देउस्कर ने बताया कि पुलिस बल के साथ स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की भी प्रभावित क्षेत्र में तैनाती की गई है। कफ्यरू कब तक जारी रखा जाएगा इसकी प्रशासन समीक्षा करने के साथ हालातों के मद्देनजर तय करेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जबलपुर में साम्प्रदायिक तनाव, कफ्यरू