DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केंद्र ने माना कोल ब्लॉक के आवंटन में हुई गलती

केंद्र सरकार ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट के सामने माना कि कोल ब्लॉक आवंटन में कहीं कुछ गलत जरूर हुआ है। इस काम को और ज्यादा बेहतर तरीके से किया जा सकता था।

जस्टिस आरएम लोढ़ा की अध्यक्षता वाली तीन जजों की पीठ के समक्ष अटॉर्नी जनरल गुलाम वाहनवती ने एक तरह से ब्लॉक आवंटन में सरकार की गलती मानी। उन्होंने कहा, ‘हमने अच्छी नीयत से निर्णय लिए, लेकिन लगता है कि कुछ गलत हुआ है। इसमें कुछ सुधार की जरूरत है।’

वाहनवती ने यह बयान उस समय दिया जब पीठ ने कहा कि आवंटन की कवायद कहीं अधिक बेहतर तरीके से की जा सकती थी। कोर्ट के सवाल पर वाहनवती ने कहा, ‘बिल्कुल सही है। मैं पीठ के विचार से सहमत हूं।’बता दें कि  यह पहली बार है जब केंद्र सरकार ने कथित कोयला घोटाले में अपनी  कोई गलती मानी है। अटॉर्नी जनरल ने यह भी माना कि आवंटन में राज्यों की सलाह लेनी चाहिए थी।

इस मामले की सुनवाई शुरू होते ही पीठ ने चुनिंदा कोयला खदानों के आवंटन को निरस्त करने के प्रति केंद्र के नजरिये के संबंध में अटॉर्नी जनरल से पूछा था। इस पर उन्होंने कहा कि सरकार अगले हफ्ते इस मसले पर अपना नजरिया स्पष्ट करेगी।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:केंद्र ने माना कोल ब्लॉक के आवंटन में हुई गलती