DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सर्दियों में व्यायाम करें पूरी तैयारी के साथ

नियमित रूप से आउटडोर व्यायाम करने वाले लोग सर्दियों में भी अपनी इस क्रिया को जारी रखना चाहते हैं, पर जैसे-जैसे पारा गिरने लगता है, उनके लिए व्यायाम करना मुश्किल होता जाता है। कुछ  सलाहें, जिन्हें ध्यान रख कर सर्दियों में भी व्यायाम जारी रख सकते हैं, बता रहे हैं रजत चौहान

घना कोहरा
इन दिनों जो ठंड है, उसमें सुबह के समय दौड़ना व्यावहारिक नहीं लगता। कभी-कभी कोहरा इतना अधिक हो जाता है कि चंद कदमों की दूरी को देखना मुश्किल होता है। ऐसे में बाहर व्यायाम करते या दौड़ते समय अपनी सेहत और सुरक्षा का भी ध्यान रखें। फ्लोरेसेंट टीशर्ट या जैकेट, कैप और ग्लव्स पहन कर ही व्यायाम करें। हैडलैंप भी आसानी से बाजार में उपलब्ध हैं, जिन्हें सिर पर पहन कर आप दौड़ते समय आगे का रास्ता साफ देख सकते हैं। हमेशा ट्रैफिक के विपरीत दिशा में दौड़ने या चलने की सलाह दी जाती है। इससे आने-जाने वाले वाहनों पर नजर रहती है। कई बार प्रदूषण के कारण धुंध होती है, ऐसे में अस्थमा के मरीजों को सर्दियों में खुले में व्यायाम करने से परहेज करना चाहिए। 

उचित कपड़े
आमतौर पर देखा जाता है कि सर्दियों में या तो अधिक कपड़े पहने हुए होते हैं या कम। सर्दियों में पसीना आना सेहत के लिए सबसे अधिक नुकसानदायक होता है। व्यायाम के दौरान कपड़ों की निचली सतह गीली हो जाती है, जिससे ठंड लगने की आशंका बढ़ जाती है। व्यायाम करते समय पसीने को सोखने वाले सूती कपड़े की टी-शर्ट या बनियान आदि ही पहनें। यदि आप अधिक व्यायाम करते हैं तो वर्कआउट पूरा होने के बाद कपड़े बदल लें।

एक मोटी जैकेट पहनने की जगह कपड़े लेयर्स में पहनें। जैसे-जैसे आप दौड़ना या व्यायाम करना शुरू करते हैं, शरीर में गर्मी आने लगती है। ऐसे में अपनी एकमात्र मोटी जैकेट को उतारना सेहत के लिए सही नहीं है। कई लेयर में कपड़े पहनने पर आप आसानी से ऊपरी जैकेट को उतार सकते हैं। जहां तक हो सके, अपनी बाजुओं और कानों को ढक कर रखें। घर से बाहर निकलते समय शरीर पर बॉडी लोशन लगाना अच्छा रहता है। इससे जुकाम की आशंका कम हो जाती है। 

सही ढंग से सांस लें
ठंड के समय में हम स्वाभाविक तरीके से सांस लेना बंद कर देते हैं। हमारी मुद्रा सिकुड़ी हुई सी रहती है, जैसे हम खुद को गले लगा रहे हों। हमारी मुद्रा का यह बदलाव हवा को अंदर ले जाने पर फेफड़ों में होने वाले विस्तार को रोकता है। पर्याप्त हवा शरीर में नहीं जाती। साथ ही हम छोटी सांसें लेते हैं। इसका हल है कि आप  तीन से चार सेकेंड के लिए एक गहरा श्वास लें और उसे दो से तीन सेकेंड के लिए रोक कर रखें। फिर उसे तीन से चार सेकेंड लेते हुए निकालें। 3 से 5 मिनट के लिए इसे दोहराते रहें। ऐसा हर समय व्यायाम करने से पहले करें। आप ऐसा तब अधिक कर सकते हैं, जब आप सीधे खड़े हों। इससे आपको अपनी मुद्रा में सुधार करने का मौका भी मिलेगा। आप अपनी छाती को अधिकतम फुला सकेंगे। जब ठंडी हवाएं भीतर जाएंगी, तब अधिक बेहतर तरीके से उनके साथ सामंजस्य बिठा सकेंगे।

पानी पीते रहें
आमतौर पर लोगों को ठंड में व्यायाम करते समय प्यास नहीं लगती, पर ठंड में भी शरीर को पानी की जरूरत होती है। हर 2 किलोमीटर चलने या दौड़ने के बाद थोड़ा पानी पीना बेहतर रहता है। इससे मुंह और गले में नमी बनी रहेगी। मुंह में नमी बनी रहने से श्वसन प्रक्रिया सहज रहती है और सांस रुकने में बाधा महसूस नहीं होती।

घर में व्यायाम करें
बाहर व्यायाम करने के इच्छुक अक्सर जिम में व्यायाम करना पसंद नहीं करते, पर अधिक ठंड में ऐसा करना अच्छा रहता है। यदि आप सप्ताह में दो दिन जिम जाते हैं तो अधिक बेहतर तरीके से व्यायाम और खेल के दौरान प्रदर्शन दे पाते हैं और चोटिल होने की आशंका भी नहीं रहती। जिम में कोई नया वर्कआउट करना आपकी मांसपेशियों को राहत पहुंचाने वाला होगा। ट्रैड मिल पर दौड़ना आपको भले ही अच्छा न लगता हो, पर आउटडोर एक्टिविटीज के साथ हफ्ते में दो दिन यदि आप ट्रैड मिल पर दौड़ते हैं तो यह आपके शेड्यूल को पूरा करेगा और आप खुद से अपने प्रदर्शन में सुधार महसूस करेंगे।
(रजत चौहान एक मैराथन धावक हैं और स्पोर्ट्स और एक्सरसाइज मेडिसिन व मस्कुलोस्केलटन मेडिसिन के डॉक्टर हैं)

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सर्दियों में व्यायाम करें पूरी तैयारी के साथ