DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में माना, कोयला आवंटन में हुई चूक

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में माना, कोयला आवंटन में हुई चूक

भारतीय जनता पार्टी ने एटर्नी जनरल द्वारा कोयला व्लाक आवंटन में चूक की बात स्वीकार किये जाने के बाद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को घेरते हुए गुरुवार को फिर उनके इस्तीफे की मांग दोहराई।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्‍ता प्रकाश जावडेकर ने आज यहां संवाददाताओं से कहा कि केन्द्र सरकार के वकील ने खुद यह बात स्वीकार की है कि कोयला व्लाक आवंटन में निश्चित रूप से चूक हुई है और यदि पारदर्शी तरीके से आवंटन किया जाता तो अच्छा होता।

जावडेकर ने कहा कि उस समय कोयला मंत्रालय संभाल रहे प्रधानमंत्री के हस्ताक्षर से सारे आवंटन हुए इसलिए उन्हें घोटाले की जिम्मेदारी लेते हुए तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए।

उन्होंने कहा कि एटर्नी जनरल जी ई वाहनवती के बयान से भाजपा जो लंबे समय से कहती आई है, वह बात सही साबित हुई है। उन्होंने कहा कि भाजपा की शिकायत ही यह थी और वाहनवती के बयान से स्थिति साफ हो गई है।

जावडेकर ने कहा कि केन्द्रीय जांच व्यूरो ने इस मामले की स्थिति रिपोर्ट न्यायालय में पेश की है, लेकिन वह यह नहीं बता रही कि 2००6 से 2००9 के बीच कोयला मंत्रालय के दो राज्य मंत्रियों और प्रधानमंत्री कार्यालय के संबंधित अधिकारियों से इस मामले में पूछताछ कयों नहीं की जा रही। उन्होंने कहा पार्टी को उम्मीद है कि न्यायालय इस सारे मामले में न्याय करेगा और सीबीआई को इन सभी से पूछताछ का निर्देश देगा।

भाजपा नेता ने कहा कि सीबीआई को यह भी आदेश दिया जाना चाहिए कि वह केवल अनियमितता का ही पता न लगाये, बल्कि इस मामले में पैसे के लेन देन की भी विस्तार से जांच करे। उन्होंने कहा कि उस समय 5० लाख करोड़ रुपये के व्लाक औने पौने दामों में बांटे गये। इसमें पैसे का लेन देन हुआ है, क्‍योंकि कांग्रेस में बिना लेन देन के कुछ नहीं होता।

उल्लेखनीय है कि  एटर्नी जनरल ने आज न्यायालय में स्वीकार किया कि कोयला व्लाक आवंटन मामले में कुछ गलतियां हुई हैं और इनसे बचने के लिए बेहतर तरीका अपनाया जा सकता था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में माना, कोयला-आवंटन में हुई चूक